Politics

पृथ्वीराज चव्हाण बोले, 'कांग्रेस के लिए प्रमुख चुनावी मुद्दा होगा राफेल करार'

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

कांग्रेस की महाराष्ट्र इकाई ने कहा है कि राफेल लड़ाकू विमान करार पार्टी के लिए प्रमुख चुनावी मुद्दा होगा. पार्टी ने डीजल और पेट्रोल की बढ़ती कीमतों पर भी भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए सरकार पर निशाना साधा. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि पार्टी राफेल और जनहित के अन्य मुद्दों पर लोकसभा और विधानसभा के आगामी चुनाव लड़ेगी.

मुख्य विपक्षी पार्टी ने फ्रांस से राफेल विमानों की खरीद में कथित अनियमितताओं के आरोप लगाए हैं. हालांकि, एनडीए सरकार ने इस आरोप को सिरे से खारिज किया है. रविवार की शाम उत्तर महाराष्ट्र के नासिक स्थित भाजी मार्केट मैदान में एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार में देश की आर्थिक स्थिति कमजोर हो गई है. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से करोड़ों रुपए कमाए हैं, लेकिन आम लोगों को कुछ खास राहत नहीं मिली है. 

कांग्रेस की ‘जन संघर्ष यात्रा’ के तहत यह बैठक आयोजित की गई. विपक्षी पार्टी ने अगस्त में राज्यव्यापी ‘जन संघर्ष यात्रा’ की शुरुआत की थी ताकि केंद्र एवं महाराष्ट्र में भाजपा की अगुवाई वाली सरकारों की ‘‘नाकामियों’’ को उजागर किया जा सके. 

इसे भी पढ़ें: BJP ने कांग्रेस पर लगाया गंभीर आरोप, कहा- राफेल डील को कांग्रेस, रॉबर्ट वाड्रा के करीबी संजय भंडारी के दिलवाना चाहती थी..

बता दें, इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने राफेल डील को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा था. वरिष्ठ कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने रविवार को आरोप लगाते हुए कहा था कि राफेल लड़ाकू विमान सौदा इस सदी का ‘‘सबसे बड़ा रक्षा खरीद घोटाला’’ है और सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसके लिए जवाबदेह हैं. उन्होंने यह भी कहा था कि कांग्रेस नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (कैग) पर इस सौदे की जांच के लिए दबाव बनाएगी. 

गौरतलब है कि इससे पहले वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल धनोआ ने कहा था कि यह सौदा ‘‘अच्छा पैकेज’’ है और विमान उपमहाद्वीप के लिए ‘‘महत्वपूर्ण’’ साबित होगा. उन्होंने कहा कि 36 राफेल लड़ाकू विमानों और एस-400 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली से वायु सेना को अति आवश्यक मजबूती मिलेगी.

बता दें, फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के द्वारा राफेल डील पर दिए गए कथित बयान के बाद देश की राजनीतिक पार्टियां केंद्र सरकार पर निशाना साध रही हैं.

DO NOT MISS