Politics

सिद्धू पर बरसे सीएम केजरीवाल, कहा- 'उनके लिए इमरान खान के साथ दोस्ती पहले है और देश बाद में'

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

पंदाब सरकार में मंत्री और कांग्रेस पार्टी के नेता नवजोत सिंह सिद्धू का पाकिस्तान प्रेम उनके लिए परेशानी की वजह बनती जा रही है। पुलवामा हमले के बाद सिद्धू ने जो बयान दिया उसे लेकर आलोचना का सिलसिला बदस्तूर जारी है। सियासी महकमे में घमासान और जंग थमने का नाम नहीं ले रहा है।

इसी क्रम में देश की राजधानी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू पर तीखा हमला किया है। सिद्धू पर करारा वार करते हुए केजरीवाल ने दावा किया कि नवजोत सिंह सिद्धू भारत के हितों से ज्यादा पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ अपनी दोस्ती को लेकर चिंतित हैं।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में  पाकिस्तान आधारित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले के बाद कांग्रेस नेता सिद्धू द्वारा दिए गए बयान की आलोचना करते हुए केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने ‘देश की भावनाओं’ को आहत किया है।

गौरतलब है कि इस कायराना आतंकी हमले में सीआरपीएफ के करीब 40 जवान शहीद हो गए थे। जिसके बाद से ही पूरे देश में आक्रोश और गुस्से का माहौल है, देशवासी मांग कर रहे हैं कि 40 के बदले 400 सिर चाहिए तभी शहीदों के दिल का बोझ हल्का होगा।

इस हमले के बाद सिद्धू ने कहा था कि ‘कुछ लोगों के कृत्य’ के लिए पूरे देश पर आरोप नहीं लगाया जा सकता। जिसके बाद अब सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा, 'सिद्धू के बयान से पूरे देश की भावनाएं आहत हुई हैं।' 

दिल्ली के मुख्यमंत्री आप की विधायक बलजिंदर कौर के शादी के प्रतिभोज में हिस्सा लेने आए थे।

उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि सिद्धू के लिए दोस्ती पहले है और देश बाद में। उन्होंने "गैरजिम्मेदाराना" बयान को लेकर सिद्धू की आलोचना की। 

इसे भी पढ़ें - कांग्रेस ने पाक PM को सुनाई खरी-खोटी, कहा- ''जैश-ए-मोहम्मद की भाषा बोल रहे हैं इमरान खान''

बता दें, पुलवामा हमले के एक सप्ताह बीत जाने के बाद मंगलवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पहली प्रतिक्रिया दी। उन्होंने रेडियो पाकिस्तान के जरिए अपनी बात रखी। अपनी दलील देते हुए इमरान ने कहा कि हम स्थिरता चाहते हैं, ऐसे में हमले की साजिश क्यों रचेंगे? हम दहशतगर्दी पर भी बात करने को तैयार हैं। भारत सोचे कि कश्मीर के युवा मरने-मारने पर क्यों उतर आए? 

DO NOT MISS