Politics

छत्तीसगढ़: पहले चरण में 60 से 70 फीसदी मतदान: चुनाव आयोग

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए पहले चरण के मतदान में सोमवार को 60 से 70 फीसदी मत पड़े. चुनाव आयोग ने यह जानकारी दी. वरिष्ठ उप चुनाव आयुक्त उमेश सिन्हा ने बताया कि मतदान प्रतिशत बढ़ सकता है क्योंकि अभी अंतिम आंकड़े मिलने बाकी हैं. छत्तीसगढ़ के कुल 90 विधानसभा सीटों में 18 सीटों पर पहले चरण के चुनाव के तहत सोमवार को मतदान हुआ. इन सीटों में मुख्यमंत्री रमन सिंह की सीट राजनांदगांव भी शामिल है. सिंह के खिलाफ पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी करूणा शुक्ला चुनाव मैदान में है. चुनाव आयोग के अनुसार शाम 5.30 बजे तक कुल मतदान प्रतिशत 58.55 था.

आयोग ने बताया कि कोंडागांव में 61.47 प्रतिशत, केशकाल में 63.51 प्रतिशत, कांकेर में 62 प्रतिशत, बस्तर में 58 प्रतिशत, दंतेवाडा में 49 प्रतिशत, खैरागढ़ में 70.14 प्रतिशत, डोंगरगढ़ में 71 प्रतिशत, डोंगरगांव में 71 प्रतिशत और खुज्जी विधानसभा सीट के लिए 72 प्रतिशत मतदान हुआ. इन 18 सीटों में 12 सीटें अनसूचित जनजाति के लिए और एक सीट अनसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं. वहीं, राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) सुब्रत साहू ने रायपुर में संवाददाता सम्मेलन में बताया कि राज्य में प्रथम चरण के लिए बस्तर क्षेत्र के सात जिले और राजनांदगांव जिले के 18 विधानसभा सीटों के लिए मतदान संपन्न हुआ.

साहू ने बताया कि 10 सीटों - मोहला मानपुर, अंतागढ़, भानुप्रतापपुर, कांकेर, केशकाल, कोण्डागांव, नारायणपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर और कोण्टा विधानसभा सीट में सुबह सात बजे से दोपहर तीन बजे तक मतदान हुआ. इस दौरान क्षेत्र के 52 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया.

उन्होंने बताया कि इसी तरह आठ विधानसभा सीटों खैरागढ, डोंगरगढ़, राजनांदगांव, डोंगरगांव, खुज्जी, बस्तर, जगदलपुर और चित्रकोट में सुबह आठ बजे से शाम पांच बजे तक मतदान हुआ. इस दौरान क्षेत्र के 70.08 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया. साहू ने बताया कि मतदान समाप्त होने के बाद भी ज्यादातर मतदान केंद्रों पर मतदाताओं की लंबी कतार लगी हुई थी, इसलिए मतदान प्रतिशत बढ़ने की संभावना है. उन्होंने बताया कि प्रथम चरण में 18 विधानसभा क्षेत्रों के 190 उम्मीदवारों ने निर्वाचन में भाग लिया, जिसमें 10 अनुसूचित जाति वर्ग से और 86 अनुसूचित जनजाति वर्ग से हैं.

उन्होंने बताया कि प्रथम चरण में कुल मतदान केन्द्रों की संख्या 4341 थी. वहीं, कुल मतदाता 31,80,014 हैं. जिनमें से पुरूष मतदाता 15,57,435 और महिला मतदाता 16,22,492 हैं.

अधिकारी ने बताया कि मतदान के दौरान तकनीकी खराबी के कारण 53 बैलेट यूनिट, 47 कंट्रोल यूनिट और 84 वीवीपैट मशीनों को बदला गया. साहू ने बताया कि सुकमा जिले के पालामडगु मतदान केन्द्र पर पिछले 15 साल के बाद पहली बार 44 मतदाताओं ने वोट डाला. इसी प्रकार दंतेवाड़ा के मूलर और निलवाया मतदान केन्द्रों में पहली बार मत पड़े. 

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि पामेड़ थाना क्षेत्र में नक्सलियों ने पुलिस दल पर हमला कर दिया था. इस घटना में सीआरपीएफ के 204 कोबरा बटालियन के असिस्टेंट कमांडेंट अमित देशवाल, उपनिरीक्षक लालचंद, प्रधान आरक्षक सुनील, आरक्षक मोहन लाल और आरक्षक चैतन्य घायल हो गएं. 

वहीं सुकमा जिले में पुलिस दल ने दो नक्सलियों को भी मार गिराया है. छत्तीसगढ़ प्रथम चरण के मतदान के लिए सुरक्षा बल के लगभग सवा लाख जवानों को तैनात किया गया. राज्य में चुनाव कार्य के लिए केंद्र से लगभग 65 हजार जवानों को यहां भेजा गया है. जिनमें अर्धसैनिक बल और पुलिस बल के जवान शामिल हैं. राज्य में शेष 72 विधानसभा सीटों के लिए 20 नवंबर को मतदान होगा और परिणामों की घोषणा 11 दिसंबर को होगी.

DO NOT MISS