Chandra Kumar Bose. Photo: PTI
Chandra Kumar Bose. Photo: PTI

Politics

चंद्र कुमार बोस बोले, अगर बकरी का दूध पीते हैं तो उसे भी मां मानें, हिंदू न खाएं इसका गोश्त, मिला ये जवाब

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

पूरे देश में जहां गोरक्षा के नाम पर हो रही हिंसा पर बहस छिड़ी हुई है. वहीं सुभाष चंद्र के पड़पोते चंद्र कुमार बोस और त्रिपुरा के गवर्नर के बीच ट्विटर पर इस मुद्दे को लेकर काफी  गहमागहमी देखने  को मिली. दरअसल बोस ने हाल में हुई मॉब लिचिंग की घटनाओं पर तंज कसते हुए ट्वीट किया कि राष्ट्रपति महात्मा गांधी बकरी को मां का दर्जा देते थे, तो इस तर्क से हिंदुओं को बकरी का मांस खाना से परहेज करना चाहिए. जिस पर बीजेपी की पश्चिम बंगाल इकाई के उपाध्यक्ष ने कड़ी आपत्ति जताई. उन्होंने बोस के इस बयान को राष्ट्रपति का अपमान करार दिया. बोस ने कहा था कि बीजेपी शासित राज्यों में बढ़ती मॉब लिंचिंग से पूरा देश परेशान है.

गौरतलब है कि बोस ने गुरूवार को अपने ट्वीट में एक घटना का जिक्र करते हुए कहा कि जब गांधी जी कोलकत्ता आते थे, तो वह मेरे बाबा शरद चंद्र बोस के वुजबर्न पार्क स्थित घर में ठहरा करते थे. वो बकरी का दूध मांगते थे, इसलिए वहां दो बकरियों को लाया गया था. बकरी का दूध पीने की वजह से वो उसे मां का दर्जा देते थे. इसलिए हिंदुओं को मांस खाना छोड़ना चाहिए.

यह भी पढ़ें- राज ठाकरे के 'विवादित' बोल, मुसलमानों को अजान के लिए लाउडस्पीकर की जरूरत क्यों है, घर में पढ़ें नमाज


मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बोस के इस ट्वीट के करीब तीन घंटे बाद त्रिपुरा के गवर्नर तथागत राय ने रिप्लाई किया, उन्होंने लिखा ना ही गांधी जी ने और ना ही अपके ग्रैंडफादर ने कभी भी कहा कि बकरी हमारी माता है- आपका निष्कर्ष है. उन्होंने आगे लिखा कि ना ही गांधी जी ने कभी कहा कि वो हिंदुओं के रखवाले हैं. हम हिंदू गाय को अपनी माता मानते हैं, ना कि बकरी को.. कृप्या ऐसा ना करें. 

यह भी पढ़ें- बारिश में रोमांस कर रहे प्रेमी जोड़े की तस्वीर खींचने पर मचा घमासान, फोटो जर्नलिस्ट को नौकरी से निकाला

बता दें, बोस ने 2016 में बीजेपी का दामन थमा था और वह साल 2016 में सीएम ममता बनर्जी के खिलाफ भवानीपुर से चुनाव लड़े थे.

जिसके बाद उन्होंने अपने बयान पर कायम रहते हुए कहा कि मेरे बयान को बारीकी से समझने की जरूरत है.  उन्होंने न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा कि पूरा देश इस तरह की हिंसा और मॉब लिंचिंग को पूरे देश में होता देश हैरान है. 

 

DO NOT MISS