Politics

कर्नाटक में गठबंधन सरकार गिरने पर भाजपा सरकार बनाने का दावा पेश करेगी : सदानंद गौड़ा

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

बेंगलुरू- कर्नाटक में सात महीने पुरानी कुमारस्वामी सरकार से दो निर्दलीय विधायकों के समर्थन वापस लेने के कुछ देर बाद केंद्रीय मंत्री डी वी सदानंद गौड़ा ने मंगलवार को यहां कहा कि राज्य में अगर कांग्रेस- जद एस की गठबंधन सरकार गिर जाती है तो भाजपा सरकार बनाने का दावा करेगी. 

गौड़ा ने कहा कि कुमारस्वामी सरकार विवादों के कारण गिर जाएगी और कांग्रेस- जद एस की ‘मित्रता’ ‘टूट के कगार’ पर है.

उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह दोस्ती टूटने के कगार पर है. यह तलाक का समय है. 37 सीटों वाली पार्टी ने सरकार बना ली है. कलह के कारण यह खुद ही खत्म हो जाएगी. अगर सरकार गिरती है तो निश्चित तौर पर हम सरकार बनाएंगे.’’ 

गौड़ा इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि गठबंधन सरकार गिरने की स्थिति में क्या भाजपा सरकार बनाने का दावा कर सकती है.

बता दें कर्नाटक में जेडीएस - कांग्रेस के गठबंधन वाली सरकार को पूरे हुए 7 महीने भी नहीं हुए है. लेकिन सियासी संकट के बादल कुमारस्वामी के अगुवाई वाली सरकार पर मंडराने लगे है. मंगलवार को दो निर्दलीय विधायक आर शंकर और एच नागेश  कुमारस्वामी सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है. उन्होंने राज्यपाल को चिट्ठी लिख कर इसकी जानकारी दे दी है. 

वहीं बीजेपी ने भी अपने सभी 104 विधायकों को दिल्ली से सटे गुरुग्राम के होटल में शिफ्ट कर दिया है. वहीं कर्नाटक बीजेपी के सीनियर नेता येदियुरप्पा का दिल्ली में बड़े नेताओं के साथ बैठकों का दौर जारी है. जानकारी के मुताबिक कांग्रेस के 5 विधायकों ने मुंबई में डेरा डाला लिया है.

इधर डर बीजेपी को भी है कि कहीं कांग्रेस उन्हीं के खेमें में सेंधमारी न कर दे. यही वजह है कि बीजेपी ने अपने विधायकों को गुरुग्राम शिफ्ट कर दिया है. दिल्ली आए कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा बीएस येदियुरप्पा ने कांग्रेस पर जोड़ - तोड़ का आरोप लगाया और कहा कि वो उनके कुछ विधायकों को मंत्री पद और दूसरी चीजों का लालच दे रहे हैं. 

कर्नाटक में मई 2018 के चुनावों के बाद कांग्रेस और जद एस ने मिलकर सरकार बनाई थी. 224 सदस्यीय विधानसभा में 104 सीट जीतकर भाजपा सबसे बड़े दल के रूप में उभरी थी. कांग्रेस को 79 सीट जबकि जद एस को 37 सीट मिली थी.

भाजपा के लोकसभा सदस्य प्रताप सिम्हा ने कहा कि हर कोई येदियुरप्पा को अगले मुख्यमंत्री के तौर पर देखना चाहता था और 104 सीट जीतने के बाद पार्टी चुप नहीं बैठेगी.

( इनपुट - भाषा से भी )
 

DO NOT MISS