Politics

जदएस-कांग्रेस गठबंधन सरकार को अपदस्थ करने की कोशिश नहीं कर रही भाजपा: येदियुरप्पा

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

कर्नाटक भाजपा के प्रमुख बी एस येदियुरप्पा ने सोमवार को कहा कि उनकी पार्टी राज्य में जद(एस)-कांग्रेस गठबंधन सरकार को अपदस्थ करने की कोशिश नहीं कर रही है जबकि कांग्रेस का दावा है कि उसके पास उसके विधायकों की ‘‘खरीद फरोख्त’’ के सबूत हैं जिन्हें 25 से 30 करोड़ रुपये तक का ‘‘प्रस्ताव’’ दिया गया है.

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा ने आरोप खारिज करते हुए कहा कि पार्टी सरकार गिराने के खेल में शामिल नहीं है. उन्होंने मांग की कि कांग्रेस अपने दावों को साबित करने के लिए सबूत पेश करे.

भाजपा पर ‘‘खरीद फरोख्त’’ के आरोपों पर अडिग रहेते हुए कांग्रेसी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने कहा कि उनके पास सबूत हैं और वह ‘‘उचित समय पर’’ इसका खुलासा करेंगे.

जद(एस)-कांग्रेस समन्वय समिति के प्रमुख सिद्धरमैया ने कहा, ‘‘हमारे पास सबूत हैं कि उन्होंने (भाजपा) किन किन पर डोरे डाले... उन्होंने किनको धन का प्रस्ताव दिया. मैं उचित समय आने पर इसका खुलासा करूंगा.’’ 

मैसुरू में संवाददाताओं से बात करते हुए उन्होंने याद किया कि कांग्रेसी विधायक बी सी पाटिल ने कहा था कि भाजपा ने उनसे संपर्क साधा था.

सिद्धरमैया ने रविवार को कहा था कि भगवा पार्टी (सरकार) गिराने के अपने खेल के तहत 25 करोड़ से 30 करोड़ रुपये की पेशकश कर कांग्रेस विधायकों की खरीद-फरोख्त में लगी है.

सिद्धरमैया के आरोप को खारिज करते हुए येदियुरप्पा ने कहा कि भाजपा को सरकार गिराने की जरूरत नहीं है क्योंकि गठबंधन सहयोगी खुद ही ‘‘असंतुष्ट’’ हैं.

येदियुरप्पा ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘सिद्धरमैया बार-बार गैर जिम्मेदाराना बयान दे रहे हैं. हम बार-बार कह रहे हैं कि हमें सरकार गिराने की जरूरत नहीं है. ऐसे आरोप उनके जैसे व्यक्ति को शोभा नहीं देते. उन्हें अपने दावे के समर्थन में सबूत सामने रखने दीजिए.’’ 

भाजपा नेता ने कहा, ‘‘वर्तमान सरकार अव्यवस्थित है क्योंकि दोनों ही दल और मंत्री संतुष्ट नहीं हैं. सरकार को अस्थिर करने का भाजपा कोई प्रयास नहीं कर रही है. ’’ 

विधानसभा में विपक्ष के नेता ने कहा कि जद (एस) प्रमुख एवं पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा ने कांग्रेस के समक्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में जद (एस) को 14 सीटें दिए जाने की मांग रखी और यही दोनों दलों के बीच विवाद की जड़ है.

(इनपुट- भाषा)
 

DO NOT MISS