Politics

VIDEO: BJP विधायक ने मायावती के जेंडर पर उठाए सवाल, बताया किन्नर से भी बदतर

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

हाल ही के दिनों में उत्तर प्रदेश की राजनीति में अविश्वसनीय बदलाव हुआ. एक दूसरे को कट्टर विरोधी और दुश्मन कहे जाने वाले समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने एक दूसरे से हाथ मिला लिया. जिसके बाद राजनीतिक महकमे की सरगर्मी काफी तेज हो गई. इसे लेकर बयानबाजी का सिलसिला बदस्तूर जारी है.

इस बीच भारतीय जनता पार्टी से विधायक साधना सिंह ने बसपा प्रमुख मायावती पर तीखा हमला करते हुए उनके जेंडर पर ही सवाल खड़ा कर दिया है. विधायक ने एक सभा को संबोधित करते हुए मायावती के महिला होने पर ही सवाल खड़े कर दिए. अपने बड़बोले बयान में उन्होंने ये तक कह दिया कि वो न तो नर हैं और न ही महिला.

ऐसे में सियासी खेमे में घमासान शुरू होना आम बात है. बसपा बनाम भाजपा की जंग एक बार फिर शुरू हो चुकी हैं. लेकिन इस बार आगाज बीजेपी की महिला विधायक ने की है.

साधना सिंह ने कहा, ''हमको तो पूर्व मुख्यमंत्री न महिला लगती हैं न पुरुष लगती हैं. इनको तो अपना सम्मान ही नहीं समझ में आता. जिस महिला का इतना बड़ा चीर हरण हुआ. एक चीर हरण हुआ द्रौपदी का उसे पांडवों से प्रतिज्ञा लिया कि जब तक दुशासन हमारा जैसे बाल खींच के लाया है. जब तक उसके कंधे का लौ हमें नहीं मिलेगा. हम ये अपमान, इस बाल को बांधेंगे नहीं, धुलेंगे नहीं.. वो एक स्वाभिमानी महिला थी.''

माया-अखिलेश पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि आज की महिला ये,.. सबकुछ लुट गया उसके बाद भी कुर्सी पाने के लिए अपने सारे सम्मान को बेंच दिया. ऐसी महिला मायावती जी का हम इस कार्यक्रम के माध्यम से तिरस्कार करते हैं. ये तो महिला, नारी जाति पर कलंक है. जिस महिला का आबरु लुटते-लुटते बचाया भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने.. वो महिला सुख सुविधा के लिए अपने वर्चस्व को बचाने के लिए अपने अपमान को को पीट दिया. 

इसके अलावा विधायक ने कहा, ''महिला का जिस दिन चार हरण होगा. जिस दिन महिला का ब्लाउज फट जाए, पेटीकोट फट जाए. साड़ी फट जाए वो महिला न सत्ता के लिए आती है. वो महिला नाम पर कलंकित है. वो पूरे देश की महिला को कलंकित करती है. इस नाते हम लोगों को उसको महिला कहने में भी संकोच लगता है. वो तो किन्नर की जाति से भी बदतर है. क्योंकि न वो नर है न महिला है.''

इसे मसले को लेकर बसपा की ओर से बीजेपी के लिए जवाब आ चुका है. BSP नेता सतीश मिश्रा ने इस पर जवाब देते हुए कहा है कि मानसिक स्तर इनका खत्म हो गया है, बिगड़ गया है, गिर गया है.

इसे भी पढ़ें - मीडिया पर भड़कीं मायावती, कहा- ''हम दब्बू नहीं हैं.. मुंहतोड़ जवाब देना भी हमें आता है''

उन्होंने कहा, ''देखिए मैंने अभी उनका भाषण सुना. जो उन्होंने अल्फाज़ इस्तेमाल किए हैं. जिस तरह के शब्द उन्होंने हमारी पार्टी की सम्मानित राष्ट्रीय अध्यक्ष के बारे इस्तेमाल किया है वो बीजेपी का एक स्तर दिखाता है और दिखाता है कि बीजेपी कितना हताश हो गई है. कितना निराश हो गई है कि उनको अब ये लग रहा है कि अब उनके पास एक भी सीट जीतने की अब ताकत उत्तर प्रदेश में नहीं रह गई है. और इसी लिए इतना फ्रस्टेट हो गए हैं कि इतने नीचे स्तर तक गिरे हैं कि जो भाषा का इस्तेमाल हुआ इससे ये दिख रहा है कि मानसिक स्तर इनका खत्म हो गया है, बिगड़ गया है, गिर गया है. ये मानसिक बीमारी और रोग से ग्रसित हो गए हैं.''

यूपी की राजनीति किस ओर करवट लेने वाली है इसका अंदाजा किसी का भी लगा पाना बेहद मुश्किल होता है. दांव पेंच के बीच दिल्ली की कुर्सी तक पहुंचने का रास्ता उत्तर प्रदेश के सियासी गलियारे से होकर ही गुजरता है. ऐसे में हर कोई इस माया-अखिलेश के गठबंधन पर टक-टकी लगाए बैठा है. लेकिन इन दोनों पार्टियों का मिलाप कितना कारगर साबित होता है. ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा.

DO NOT MISS