Politics

सीपी जोशी के विवादित बयान ने पकड़ा तूल, अमित मालवीय बोले- 'राहुल गांधी के इशारे पर ही होती है ऐसी बयानबाजी'

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

देश की राजनीतिक गरियारों में 'सियासी घमासान' मचा हुआ है. एक वीडियो, विवादित बयान और सियासत में उबाल... फिलहाल देश का हाल कुछ ऐसा ही है. हर पार्टी एक दूसरे को लटेपे में लेने से नहीं चूक रही है. लेकिन हम बात कर रहे हैं कांग्रेस नेता सीपी जोशी की विवादित टिप्पणी की. जिसके बाद मानो भूचाल सा आ गया. बीजेपी इस मौके को हाथ से नहीं देना चाहती है. शायद यही वजह है जिसके चलते बीजेपी लगातार कांग्रेस नेता के इस बयान को उछाल रही है.

अपने नेता के बयान की आलोचना करते हुए राहुल गांधी ने सीपी जोशी को माफी मांगने की नसीहत तो दे दी. लेकिन बीजेपी राहुल के इस रवैये को ढोंग करार दे रही है.

दरअसल गुरुवार को कांग्रेस पार्टी के नेता सीपी जोशी का विवादित बयान सामने आया था. इस बयान में सी पी जोशी ने सारेआम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी नेता उमा भारती की जात पर विवादित टिप्पणी करते हुए नजर आ रहे थे. हालांकि कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर जोशी के बयान की आलोचना की थी. 

राहुल गांधी के इस ट्वीट पर बीजेपी IT सेल के हेड अमित मालवीय ने पलटवार किया है. मालवीय ने कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर का जिक्र करते हुए राहुल को कटघरे में खड़ा कर दिया. ट्वीट का जवाब देते हुए मालवीय ने लिखा है कि, 'आप (राहुल गांधी) के शब्दों का मतलब कुछ नहीं है. मणिशंकर अय्यर ने गुजरात चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नीच को बोला था. आलोचनाओं से बचने के लिए आपने उस वक्त तो उन्हें पार्टी से निकाल दिया था. लेकिन चुनाव के तुरंत बाद आप उन्हें दोबारा कांग्रेस में शामिल कर लेते हैं. ये बेकार बयान आपके ही आदेश पर दिए जाते हैं. ये भी एक सच है'

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष ने शुक्रवार को ही ट्वीट के जरिए सीपी जोशी के बयान की आलोचना की है. राहुल ने अपने ट्वीट में लिखा, 'सी पी जोशी जी का बयान कांग्रेस पार्टी के आदर्शों के विपरीत है. पार्टी के नेता ऐसा कोई बयान न दें जिससे समाज के किसी भी वर्ग को दुःख पहुंचे. कांग्रेस के सिद्धांतों, कार्यकर्ताओं की भावना का आदर करते हुए जोशीजी को जरूर गलती का एहसास होगा. उन्हें अपने बयान पर खेद प्रकट करना चाहिए.'

DO NOT MISS