Politics

अमित शाह बोले, 'BJP और शिवसेना गठबंधन महाराष्ट्र में 48 में से कम से कम 45 लोकसभा सीटें जीतेगा'

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

काफी लंबे समय से NDA के दो साथी, भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना में आज पूरी तरह से सुलह-सपाटा हो गया है। तल्खियों के बाद बीजेपी और शिवसेना ने एक-साथ चुनाव में दांव आजमाने का मूड बना लिया है। आज भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस करके इसका ऐलान किया।

इस दौरान बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने NDA में भाजपा के साथी दल शिवसेना की खूब तारीफ की। उन्होंने कहा कि भाजपा के साथ गठबंधन में सबसे पुरानी पार्टी शिवसेना और अकाली दल है जो अच्छे और बुरे दोनों वक्त में साथ खड़ी रही है।

पिछले कुछ समय के तनावपूर्ण संबंधों के बीच, भाजपा और शिवसेना ने सोमवार को आगामी लोकसभा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ने के लिए सीटों के बंटवारे की घोषणा कर ही दी। 

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस दोनों ने कहा कि जनभावना यह है कि दोनों दलों को एकसाथ आना चाहिए।

वहीं अमित शाह ने अपनी पुरानी टिप्पणी याद करते हुए कहा कि भाजपा और शिवसेना गठबंधन महाराष्ट्र में 48 में से कम से कम 45 लोकसभा सीटें जीतेगा।

उन्होंने कहा कि भाजपा और शिवसेना के करोड़ों कार्यकर्ता चाहते हैं कि दोनों दलों के बीच गठबंधन हो। शिवसेना भाजपा की सबसे पुरानी सहयोगी है।

इसके साथ ही शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि राम मंदिर भाजपा और शिवसेना के बीच गठबंधन की साझी डोर है। उन्होंने कहा कि इसे जल्द से जल्द बनाया जाना चाहिए।

तो वहीं सीएम फडणवीस ने कहा कि बीजेपी और शिवसेना राष्ट्रीय विचारधारा वाली पार्टियां हैं जो व्यापक लोकहित में एक साथ आयी हैं। सैद्धांतिक रूप से दोनों दल हिन्दुत्ववादी हैं।

दोनों दलों के गठबंधन की घोषणा से पहले शिवसेना मुखपत्र ‘सामना’ के संपादकीय में कई बार भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कड़ी आलोचना की गई थी। पिछले साल एक जनसभा में ठाकरे ने घोषणा की थी कि उनकी पार्टी भाजपा के साथ गठबंधन नहीं करेगी। 

देवेंद्र फडणवीस ने शिवसेना प्रमुख को उनकी सरकार का ‘मार्गदर्शक’ बताते हुए कहा, ‘‘उद्धव जी ने राम मंदिर के निर्माण पर जोर दिया है। और भाजपा इसका पूरी तरह से समर्थन करती है।’’ 

शिवसेना प्रमुख ठाकरे ने कहा कि पुलवामा हमले को लेकर जनता में बहुत गुस्सा है और वह सरकार से उम्मीद करते हैं कि वह पाकिस्तान को दिखाएगी कि भारत कमजोर देश नहीं है।

इसे भी पढ़ें - BJP-शिवसेना समझौते पर PM मोदी ने कहा, ‘मुझे विश्वास है कि हमारा गठबंधन महाराष्ट्र की एकमात्र पसंद होगी’

बता दें, महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों में से भाजपा 25 पर और शिवसेना 23 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। दोनों पार्टियां गठबंधन के अन्य सहयोगियों को उनके हिस्से की सीटें देने के बाद इस साल प्रस्तावित 288 सदस्यीय राज्य विधानसभा में बराबर बराबर सीटों पर उम्मीदवार उतारेंगी।

DO NOT MISS