Politics

योगी की अली-बजरंगबली टिप्पणी पर बौखलाए ओवैसी ने पूछा- क्या इस देश में अली का नाम...

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन या एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने इस्लाम के चौथे खलीफा हजरत अली पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की टिप्पणी को लेकर उनपर हमला बोला है और उनकी टिप्पणी पर चुप्पी को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ करार दिया. हैदराबाद के सांसद ने सवाल किया कि आदित्यनाथ को इस तरह का बयान देने का अधिकार किसने दिया?

ओवैसी ने रविवार को एक चुनावी सभा में कहा, ‘‘ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने मध्य प्रदेश में की एक रैली में सभी सीमाएं लांघ दीं. उन्होंने कहा, ‘आप अली को रख लो... हमारे लिए बजरंग बली काफी हैं.’ यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि किसी ने भी उनके बयान की निंदा नहीं की.’’

उन्होंने कहा, ‘‘ निश्चित तौर पर, आप बजरंग बली के अनुयायी हो सकते हैं. इस पर किसी को ऐतराज नहीं है. अली पूरी कायनात के संरक्षक हैं. अली हमारे हैं और हमारे रहेंगे. क्या इस देश में अली का अनुयायी होने और उनका नाम लेने की इजाजत नहीं है?’’

आदित्यनाथ ने कांग्रेस नेता कमलनाथ के एक कथित लीक वीडियो पर उनपर हाल में निशाना साधा था. इसमें कांग्रेस नेता मुस्लिम नेताओं के साथ बैठक के दौरान कथित रूप से कह रहे हैं कि वे पार्टी के लिए समुदाय से 90 प्रतिशत मतदान सुनिश्चित करें, नहीं तो पार्टी को काफी नुकसान होगा. 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने भोपाल में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था, ‘‘ मैं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ का बयान पढ़ रहा था. उन्होंने कहा कि उन्हें एससी, एसटी वोटों की जरूरत नहीं है. उन्हें सिर्फ मुस्लिमों के वोट की जरूरत है. आप अपने अली को रखो, हमारे लिए बजरंग बली काफी हैं.’’

वहीं वीडियो सामने आने के बाद बढ़ते विवाद पर कमलनाथ ने अपनी सफाई पेश की थी. उन्होंने कहा था कि  'धर्म की राजनीति में ये बौखला गए हैं. ये वीडियो और व्हाट्सएप की राजनीति पर उतर आए हैं. मुझे इसकी चिंता नहीं है. क्योंकि जनता इन सब बात से प्रभावित होने वाली नहीं है.. सच्चाई सबके सामने है.'

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने भी कमलनाथ के इस वीडियो पर तीखी प्रतिक्रिया दी थी. बता दें, इस बार मध्य प्रदेश में कांग्रेस और बीजेपी के बीच कड़ी होने की उम्मीद जताई जा रही है. जहां एक तरफ बीजेपी शिवराज सरकार के 15 सालों में किए गए कामों को लेकर जनता के बीच जा रही है वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस महंगाई, नोटबंदी, राफेल विवाद, किसानों से जुड़े मुद्दों पर बीजेपी को घेर रही है. मध्य प्रदेश में 28 नवंबर को वोट डाले जाएंगे और चुनावी नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे.

हज़रत अली (रज़ी अल्लाह) चौथे खलीफा हैं. वह इस्लाम के पैंगबर हज़रत मोहम्मद के चचरे भाई और दामाद हैं. ओवैसी ने कहा कि आदित्यनाथ की टिप्पणी मुसलमानों का ‘अपमान’ है.


(इनपुट- भाषा)

DO NOT MISS