Politics

कांग्रेस ने कश्मीर में 'अलगवाद' के लिए BJP को बताया जिम्मेदार, जेटली ने पूर्व PM नेहरू पर उठाए सवाल

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

राज्यसभा में गुरुवार को जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर गुलाब नबी आजाद और अरुण जेटली में जमकर वार पलटवार हुआ. जेटली ने आजाद ने आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि अगर कांग्रेस आरोप- प्रत्यारोप की राजनीति कर भूतकाल में की गई अपनी गलती को साफ करना चाहती है तो ऐसा संभव नहीं है.

सदन में बहत के दौरान जेटली बोले कि जब इतिहास कश्मीर मुद्दे पर श्यामा प्रसाद मुखर्जी और पंडित नेहरु के दृष्टिकोण का आकलन करेगा तो बहुत दिक्कत होगी.

बता दें, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री औप राज्यसभा सांसद गुलाब नबी आजाद ने कहा था कि जब से मोदी सरकार सत्ता में आई है तब से जम्मू कश्मीर में बाकि देश के लिए अलगाववाद की भावना को बढ़ावा मिला है यहीं नहीं बीजेपी ने राज्यपाल के जरिए सूबे के कानून बदलने की कोशिश की.


अरुण जेटली ने कहा , आपने जम्मू कश्मीर में सत्ता में बने रहने के लिए लोकतंत्र के साथ मजाक किया है. आप आज कह रहे हैं कि आज हालात खराब हो गए हैं जबकि आपने ही लोगों ने उनके चुनाव लड़ने तक का हक छीनने का काम किया है. कश्मीर में कांग्रेस के सत्ता से जाने के बाद देसाई सरकार में 1977 का चुनाव पहला स्वतंत्र और लोकतांत्रिक चुनाव था. आप हम पर विधायकों की खरीद के आरोप लगाए रहे हैं जबकि आपने राज्यपाल के जरिए रातों-रात विधायक खरीदकर सरकार बनवाई थी.

उन्होंने कहा कि कश्मीर में लड़ाई अलगाववाद के खिलाफ है, वहां कि क्षेत्रीय पार्टियों और राष्ट्रीय पार्टियां के बीच समन्वय जरूरी है. ऐसा आपने भी किया था और हमने भी पिछली सरकार के जरिए किया था.


कश्मीर मुद्दे पर राज्यसभा में नेता सदन अरुण जेटली ने कहा कि देश की संप्रभुता कभी चैलेंज हुई तो एक मात्र जम्मू कश्मीर में हुआ है. वहां फौज भेजने में देरी हुई, केंद्र को भी कुछ फैसलों के बारे में बता चला, अगर उसकी जिम्मेदारी भी राजनाथ सिंह पर डाली जाएगी तो ये इतिहास का मजाक बनाने के बराबर होगा. जेटली ने कहा कि आपका दृष्टिकोण वहां के लिए हमेशा गलत रहा है, आपने वहां कई ऐसी गलतियां कीं जिसकी सजा आजतक देश भुगत रहा है. 

 

DO NOT MISS