pc - twitter / @samajwadiparty
pc - twitter / @samajwadiparty

Politics

मायावती को PM बनाने पर बोले अखिलेश - 'हमें खुशी होगी की यूपी से फिर एक प्रधानमंत्री बने '

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

उत्तर प्रदेश के राजनीति में धुर विरोधी मायावती और अखिलेश यादव आज लखनऊ के गोमती नगर स्तिथ होटल ताज में संयुक्त प्रेस वार्ता कर संबोधित किया. मायवती ने दोनों दलों के गठबंधन का ऐलान करते हुए कहा कि दोनों पार्टियां 38-38 सीटों पर चुनाव लडेंगी. मायावती ने कहा कि वे कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेंगे लेकिन अमेठी और रायबरेली कांग्रेस के लिए छोड़ रहे हैं. 

वहीं मायावती को प्रधानमंत्री बनाने के सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा ,'' यूपी ने हमेशा पीएम दिया है. हमें खुशी होगी की यूपी से फिर एक प्रधानमंत्री बने .''  

इस संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने कहा बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की ये संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह यानी गुरु चेला की नींद उड़ाने वाली है . 


मायावती ने कहा गेस्ट हाउस कांड जैसे बातें भुलाकर साथ आए हैं. सपा-बसपा के गठबंधन ने जनता को एक नई उम्मीद दी है. हम पिछड़ों, गरीबों और अल्पसंख्यकों की ताकत बनेंगे. बीजेपी ने जनता को धोखा देकर प्रदेश और केंद्र में सरकार बनाई है. हमने बीजेपी को पहले ही उपचुनाव में हरा दिया है. यह गरीबों, मजदूरों, कारोबारियों, युवाओं, महिलाओं, पिछड़ों, दलितों और अल्पसंख्यकों का गठबंधन है. 


उन्होंने आगे कहा 1993 में मुलायम सिंह यादव और कांशीराम ने एक साथ चुनाव लड़ा था. लेकिन सभी को पता है कि नतीजा क्या हुआ. कुछ गंभीर मुद्दों की वजह से वह गठबंधन चल नहीं सका. लेकिन अब हम साथ आए है गठबंधन के लिए. मैं देश हित और जन हित को गेस्ट हाउस कांड से ऊपर रखती हूं. हम इतिहास दोहराएंगे. यह आंबेडकर और लोहिया को मानने वालों का गठबंधन है. यह जातिवादी और साम्प्रदायिक बीजेपी से अलग है.


मायवती ने कहा -कांग्रेस को बोफोर्स ने हराया था और बीजेपी को राफेल हराएगी. कांग्रेस के दौर में देश में इमरजेंसी लागू कर दी गई थी, बीजेपी के दौर में देश में अघोषित इमरजेंसी है. कांग्रेस के साथ हमारा पिछला अनुभव ठीक नहीं रहा है, इसका फायदा हमें वोटों में नहीं मिला था. ऐसे में कांग्रेस को हमसे फायदा मिलता है लेकिन हमें नहीं मिलता. हमारा वोट प्रतिशत भी घटड जाता है. पिछले विधानसभा चुनाव में सपा की हार कांग्रेस से गठबंधन की वजह से हुई थी . 

DO NOT MISS