Politics

अनुपम खेर का दावा, ‘एक्सीडेंटल PM’ के रिलीज होने के बाद मनमोहन सिंह सभी भारतीयों के दिलों पर राज करेंगे..

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:


बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर ने ‘ द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का किरदार निभाने को अब तक की अपनी सबसे शानदार भूमिका बताते हुए कहा कि वास्तविकता और नकल के बीच मामूली फर्क होता है.

खेर ने कहा कि फिल्म रिलीज होने के बाद पूर्व प्रधानमंत्री भारत के लोगों के दिलों में अपने लिए जगह बनाने लेंगे. यह फिल्म सिंह के पूर्व मीडिया सलाहकार संजय बारू की 2014 में इसी नाम से आई किताब पर आधारित है.

फिल्म राजनीतिक विवादों के केंद्र में है. भाजपा ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से फिल्म का ट्रेलर साझा किया और कहा कि ‘एक परिवार ने 10 साल तक देश को किस प्रकार से बंधक बनाकर रखा यह उसकी दिलचस्प कहानी है.’ 

कांग्रेस ने कहा कि 2019 के चुनाव से पहले यह भाजपा का ‘प्रोपेगेंडा’ है. हालांकि महाराष्ट्र युवा कांग्रेस ने शुरू में मांग की थी कि फिल्म को रिलीज करने से पहले उन्हें दिखाया जाए, लेकिन बाद में उन्होंने अपनी मांग को वापस ले लिया, क्योंकि पार्टी ने कहा कि वे फिल्म की रिलीज पर रोक की मांग नहीं करेगी.

फिल्म के ट्रेलर से लगता है कि सिंह को कांग्रेस की अंदरूनी राजनीति के पीड़ित के तौर पर दिखाया गया है, लेकिन खेर ने कहा कि फिल्मकारों ने संप्रग सरकार के 10 सालों को बहुत प्रामाणिकता से पेश किया है.

अभिनेता ने कहा, ‘‘ कांग्रेस पार्टी में कुछ वर्गों का मानना है कि ‘इसे गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए और हमने फिल्म में उनका (सिंह का) मजाक बनाया है. मेरा मानना है कि फिल्म के बाद, वह (सिंह) भारत के सभी घरों और लोगों के दिलों में होंगे.’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे (विवादों की) उम्मीद थी. मेरा तर्क यह है कि कांग्रेस पार्टी को संजय बारू पर मुकदमा करना चाहिए था और किताब को प्रतिबंधित करना चाहिए था. यह चार साल से सार्वजनिक है.’’ 

खेर पूर्व प्रधानमंत्री की भूमिका निभाने के लिए हो रही तारीफों से खुश हैं.

अभिनेता ने कहा, ‘‘ वास्तविकता और नकल में बहुत मामूली फर्क होता है. मुझ पर जुनून सवार हो गया था और इसके लिए मैंने पूरी जान लगा दी थी. जब लोग कहते हैं कि ‘मैं उन्हीं की तरह लग रहा हूं’ तो यह एक अभिनेता के लिए बड़ी प्रशंसा है. मैंने नतीजों को हासिल करने के लिए सात-आठ महीने बहुत मेहनत की.’’ 

उन्होंने कहा कि यह किरदार निभाने का कोई मलाल नहीं है बल्कि यह उनकी शानदार भूमिका है.

अभिनेता का मानना है कि विरोध-प्रदर्शन हर जगह होते हैं.

खेर ने कहा, ‘‘ अच्छे और बुरे दोनों तरह के लोग होंगे. सहिष्णु और असहिष्णु लोग भी होंगे. ‘आंधी’ जैसी फिल्में हैं जिन्हें प्रतिबंधित किया गया. कुछ किताबों को भी प्रतिबंधित किया गया.’’

एक जनवरी को रिलीज होने वाली फिल्म में अक्षय खन्ना बारू के किरदार में हैं.

(इनपुट- भाषा)

DO NOT MISS