Politics

जगदीश टाइटलर की VVIP ट्रीटमेंट पर भड़के संजय सिंह, ''कांग्रेस का सिख विरोधी चेहरा फिर हुआ बेनकाब''

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

आम आदमी पार्टी के नेता और सांसद संजय सिंह ने कांग्रेस पार्टी पर धावा बोला है. दरअसल कांग्रेस पार्टी ने दिल्ली इकाई की कमान पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के हाथों में सौंप दी है. कांग्रेस पार्टी द्वारा आयोजित इस समारोह में शिरकत करने के लिए 1984 में हुए सिख विरोधी दंगे के आरोपी रहे जगदीश टाइटलर भी पहुंचे. इस दौरान टाइटलर जिंदाबाद के नारे लगे और पार्टी ने उन्हें VVIP ट्रीटमेंट भी दी.

कांग्रेस पार्टी के इस रवैये को देखते हुए राजनीति उबाल मार रही है. हर कोई इस वाकये के बाद अपनी आपत्ति जता रहा है. वहीं संजय सिंह ने भी कांग्रेस की इस हरकत के बाद अपना आक्रोश जाहिर किया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस का सिख विरोधी चेहरा एक बार फिर जनता के सामने बेनकाब हुआ है. दिल्ली में कांग्रेस का जनाधार जीरों है, कांग्रेस दिल्ली में किसी को भी खड़ा कर ले, आम आदमी पार्टी के लिए कोई चुनौती नहीं है.

एक बयान जारी करते हुए आप राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा कि आज दिल्ली में शीला दीक्षित के प्रदेश अध्यक्ष बनने की ख़ुशी में, कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया, और सम्मान समारोह में सिख दंगो के आरोपी जगदीश टाइटलर पहली पंक्ति में खड़े नज़र आए.  एक बार फिर कांग्रेस का सिख विरोधी चेहरा देश की जनता के सामने बेनकाब हो गया है.

कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए संजय सिंह ने कहा कि केवल दिल्ली में ही नहीं बल्कि पंजाब के मुख्यमंत्री जो की खुद भी सिख समुदाय से संबंध रखते हैं, अपनी पुरानी दोस्ती के चलते जगदीश टाइटलर को क्लीन चिट देते हैं. जहां एक तरफ सिख समुदाय के सैकड़ों लोग इस बात के गवाह हैं, वहीं दूसरी और कैप्टन अमरिंदर सिंह कहते हैं की सिख दंगो में उनकी कोई भूमिका नहीं रही.

इसे भी पढ़ें - शीला दीक्षित के अध्यक्ष पद संभालने के कार्यक्रम में पहुंचे सिख दंगे के आरोपी जगदीश टाइटलर सवालों से बचते नजर आए

उन्होंने कहा कि सिख दंगो में सैकड़ों सिखों के क़त्ल के जिम्मेदार लोगो को आज भी कांग्रेस जिम्मेदार नहीं मानती.  कमलनाथ को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री की कुर्सी से नवाज़ा, और जगदीश टाइटलर प्रदेश अध्यक्ष के कार्यक्रम में पहली पंक्ति में खड़े नज़र आते हैं

संजय सिंह का कहना है कि ये खुले तौर पर सिखों के प्रति विरोध नहीं तो और क्या है.  कांग्रेस को ये साफ़ करना होगा की कांग्रेस सिख दंगो में सैकड़ों निर्दोष सिखों के कातिलों के साथ है या फिर पीड़ित परिवारों के साथ खड़ी होगी.

शीला दीक्षित के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष पद का भर संभालने पर संजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस चाहे किसी को भी दिल्ली प्रदेश में खड़ा कर ले.  दिल्ली में कांग्रेस का कोई जनाधार नहीं बचा है. देश की जनता कांग्रेस के सालों के भ्रष्टाचार से बुरी तरह परेशान हो चुकी थी. आज दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने जो परिवर्तन के कार्य किए हैं, वो एक एतिहासिक काम है.  देश के किसी भी राज्य की सरकार ने अभी तक 4 सालों में इतने बदलाव के कार्य नहीं किए हैं, जितने आम आदमी पार्टी की सरकार ने दिल्ली में करके दिखाए हैं. कांग्रेस दिल्ली में आम आदमी पार्टी के लिए कोई चुनौती नहीं हैं.

DO NOT MISS