Politics

विपक्षी एकता में एक बार फिर दिखी दरार, CAA मुद्दे पर कांग्रेस की बैठक से AAP और बीएसपी का किनारा

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

बसपा प्रमुख मायावती ने सोमवार को कहा कि नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी पर चर्चा के लिए कांग्रेस द्वारा बुलाई गई विपक्षी पार्टियों की बैठक में उनकी पार्टी शामिल नहीं होगी। वहीं आम आदमी पार्टी (आप) ने भी इस बैठक में हिस्सा नहीं लेेने का निर्णय लिया है। 

मायावती ने ट्वीट किया, 'जैसा कि विदित है कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार को बसपा का बाहर से समर्थन दिए जाने पर भी, इन्होंने दूसरी बार वहाँ बसपा विधायकों को तोड़कर उन्हें अपनी पार्टी में शामिल करा लिया है जो यह पूर्णत: विश्वासघात है।'

उन्होंने कहा, 'ऐसे में कांग्रेस के नेतृत्व में आज विपक्ष की बुलाई गई बैठक में बसपा का शामिल होना, यह राजस्थान में पार्टी के लोगों का मनोबल गिराने वाला होगा। इसलिए बसपा इस बैठक में शामिल नहीं होगी।'

मायावती ने ट्वीट में कहा, 'वैसे भी बसपा सीएए और एनआरसी आदि के विरोध में है। केन्द्र सरकार से पुनः अपील है कि वह इस विभाजनकारी और असंवैधानिक कानून को वापस ले। जेएनयू और अन्य शिक्षण संस्थानों में भी छात्रों का राजनीतिकरण करना अति-दुर्भाग्यपूर्ण।'

आप पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने बताया कि आप को बैठक के बारे में कोई जानकारी नहीं है, इसलिए इसमें शामिल होने को कोई मतलब नहीं है। सूत्रों ने हालांकि दावा किया कि दिल्ली में आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर आप इस बैठक में शामिल नहीं हो रही।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शनों में संयुक्त कार्य योजना का खाका तैयार करने पर चर्चा करने के लिए सोमवार को यह बैठक बुलाई है।

आप ने इस कानून का संसद में विरोध किया था और पिछले महीने हुई विपक्षी दलों की बैठक में भी उसने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी।

DO NOT MISS