Law and Order

प्रत्यर्पण मामले में भारत को मिली बड़ी कामयाबी, भगौड़े विजय माल्या को भारत लाया जाएगा

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

शराब कारोबारी विजय माल्या सोमवार को बड़ा झटका लगा है. लंदन की वेस्टमिंस्टर अदालत में माल्या की पेशी के दौरान आज एक बड़ा फैसला आया है., माल्या के प्रत्यर्पण के मुकदमे पर फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने माल्या को प्रत्यर्पण का आदेश दे दिया है. ठप खड़ी किंगफिशर एयरलाइंस के प्रमुख रहे 62 वर्षीय माल्या पर करीब 9,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और धन शोधन का आरोप है.

वेस्टमिंस्टर कोर्ट के इस फैसले को भारत की बड़ी कामयाबी के तौर पर देखा जा रहा है.

सीबीआई प्रवक्ता ने खबर पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मीडिया की खबरों से हमें पता चला है कि लंदन की एक अदालत ने विजय माल्या के प्रत्यर्पण का आदेश दिया है, हम इस फैसले का स्वागत करते हैं.

 पिछले साल अप्रैल में प्रत्यर्पण वॉरंट पर गिरफ्तारी के बाद से माल्या जमानत पर है. माल्या अपने खिलाफ मामले को राजनीति से प्रेरित बताते रहे हैं. हालांकि माल्या बार-बार खुद को बकसूर बता रहा था लेकिन कोर्ट के इस फैसले के बाद भगौड़े माल्या पर शिकंजा कसा चुका है.

बता दें कि, शराब कारोबारी विजय माल्या को भारत में उसके खिलाफ कर्ज धोखाधड़ी के मामलों में ब्रिटेन से प्रत्यर्पित किये जाने की स्थिति में मुंबई की आर्थर रोड जेल के अधिकारियों ने उसके लिए एक उच्च सुरक्षा वाली बैरक तैयार रखी है.

करीब 9000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और धनशोधन के आरोपों के चलते भारत में वांछित माल्या सोमवार को लंदन में वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश हो सकता है जहां उसकी प्रत्यर्पण संबंधी सुनवाई पर फैसला आना है.

किंगफिशर एयरलाइन्स का पूर्व कर्ताधर्ता 62 वर्षीय माल्या पिछले साल अप्रैल में एक प्रत्यर्पण वारंट पर गिरफ्तारी के बाद से जमानत पर है.

जेल के एक अधिकारी ने कहा कि अगर माल्या को प्रत्यर्पित किया जाता है तो उसे जेल परिसर के अंदर दो-मंजिला इमारत में स्थित एक उच्च सुरक्षा वाली बैरक में रखा जाएगा. जेल के इसी हिस्से में 26/11 के मुंबई आतंकी हमले के दोषी अजमल कसाब को रखा गया था.

उन्होंने कहा कि मध्य मुंबई स्थित जेल में उच्च सुरक्षा वाली एक बैरक को तैयार किया गया है.

यह भी पढ़ें - क्रिश्चियन मिशेल के बाद अब विजय माल्या के प्रत्यर्पण पर आज आ सकता है बड़ा फैसला...

अधिकारी ने कहा, ‘‘हम माल्या को यहां अपने सुधार केंद्र में सुरक्षित रखने के लिए पूरी तरह तैयार हैं. अगर माल्या को यहां लाया जाता है तो हम उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालेंगे.’’

उन्होंने कहा कि चिकित्सकीय आपात स्थिति में माल्या को बैरक से लगे चिकित्सा केंद्र में इलाज के लिए ले जाया जा सकता है जहां कैदियों के प्राथमिक उपचार के लिए डॉक्टर और अन्य कर्मचारी होते हैं.

अधिकारी के अनुसार, उच्च सुरक्षा वाली बैरक अन्य कोठरियों से अलग हैं. इनमें लगातार सीसीटीवी की निगरानी होती है और अत्याधुनिक हथियारों के साथ सुरक्षाकर्मी तैनात रहते हैं.

केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने पहले कहा था कि मुंबई की आर्थर रोड जेल दुनिया के सर्वश्रेष्ठ कारावासों में से एक है.

यह भी पढ़ें- भगोड़े विजय माल्या बोले- बैंको का 100 फीसदी कर्ज चुकाने के लिए तैयार हूं, प्लीज ले लीजिए...

अधिकारी का यह बयान तब आया था जब ब्रिटेन ने भारतीय अधिकारियों से आर्थर रोड जेल का एक वीडियो भेजने को कहा था जहां माल्या को प्रत्यर्पण के बाद रखने की योजना है.

 

DO NOT MISS