Law and Order

ICICI बैंक-वीडियोकॉन मामला: ईडी ने खंगाले चंदा कोचर-वेणुगोपाल धूत के आवास और दफ्तर

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर और वीडियोकॉन समूह के प्रवर्तक वेणुगोपाल धूत के आवास एवं कार्यालय परिसर की तलाशी ली। ईडी ने यह खोजबीन बैंक धोखाधड़ी से जुड़े एक मामले में की है।

अधिकारियों ने बताया कि मुंबई एवं अन्य जगहों पर कम से कम पांच कार्यालय और आवासीय परिसर में यह छापेमारी की गई है।

ईडी ने एक बयान में कहा, ‘‘धनशोधन रोकथाम कानून (मनी लॉन्ड्रिंग कानून) के प्रावधानों के तहत मुंबई में कोचर और औरंगाबाद में धूत के परिसरों की तलाशी की गई है।’’ 

ईडी ने इस महीने की शुरुआत में कोचर, उनके पति दीपक कोचर, धुत एवं अन्य के खिलाफ के मनी लॉन्ड्रिंग कानून के तहत एक आपराधिक मामला दर्ज किया था। यह मामला आईसीआईसीआई बैंक द्वारा वीडियोकॉन समूह को 1,875 करोड़ रुपये का ऋण आवंटित करने में कथित अनियमिताओं और भ्रष्ट व्यवहार की जांच से जुड़ा है।

अधिकारियों ने बताया कि मामले में अधिक सबूतों की तलाश के लिए ईडी ने शुक्रवार सुबह यह छापेमारी की। इसमें पुलिस ने ईडी की मदद की।

पिछले महीने इस संबंध में सीबीआई द्वारा दर्ज किए गए एक मामले पर संज्ञान लेते हुए ईडी ने धन शोधन कानून के तहत यह मामला दर्ज किया है।

सीबीआई के मामले में चंदा कोचर, दीपक कोचर, धूत और उनकी कंपनियों वीडियोकॉन इंटरनेशनल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (वीआईईएल) और वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड (वीआईएल) को नामजद किया गया है।

इसे भी पढ़ें - ICICI बैंक मामला : दस्तावेजों की जांच के बाद सीबीआई संदिग्धों को पूछताछ के लिए बुलाएगी

सीबीआई द्वारा दर्ज प्राथमिकी में धूत की एक और कंपनी सुप्रीम एनर्जी और दीपक के नियंत्रण वाली न्यूपावर रीन्यूएबल्स को भी नामजद किया गया है।

इसे भी पढ़ें - चंदा कोचर ने ICICI बैंक के CEO पद से दिया इस्तीफा, संदीप बख्शी को बनाया गया नया MD और CEO 

आरोप है कि धूत ने अपनी कंपनी सुप्रीम एनर्जी के माध्यम से दीपक की कंपनी में निवेश किया था। इसके लिए आईसीआईसीआई बैंक द्वारा एक ऋण मंजूर किया गया और यह ऋण एक मई 2009 को चंदा कोचर के बैंक का मुख्य कार्यकारी अधिकारी बनने के बाद मंजूर किया गया।

DO NOT MISS