Law and Order

केरल नन रेप केस : 'ट्रांसफर' को लेकर नन ने कहा - मामले को खत्म करने और पीड़िता को अलग-थलग करने की चाल

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

केरल के बहुचर्चित नन रेप मामले में आरोपी बिशप फ्रैंको मुलक्कल का विरोध करने वाली पांच मेंचार ननों को  7 और 15 जनवरी ट्रांसफर नोटिस थमा दिया गया है. इन सबको कोट्टम के कॉन्वेंट से बाहर जाने के लिए कहा गया . वर्तमान में चारों नन कोट्टायम के पास कुराविलंगड़ के कॉन्वेंट में पीड़िता नन के साथ रह रही हैं. 

ट्रांसफर का विरोध करते हुए नन एसआर अनुपमा ने रिपब्लिक टीवी से बात करते हुए कहा, 'यह हमारे खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की तरह है और हम मदर जनरल को जवाब देने की तैयारी कर रहे हैं . नन अनुपमा ने बताया, ‘हम ट्रांसफर के इस ऑर्डर को स्वीकार नहीं करेंगे और कुराविलंगड़ स्थित कॉन्वेंट में रहेंगे.’ यह मामले को खत्म करने और पीड़िता को अलग-थलग करने के लिए की चाल है . 

नन अनुपमा ने कहा पीड़ित बहन को हमारे समर्थन की जरूरत है और हम उसकी सुरक्षा के लिए यहां रहेंगे. यह ट्रांसफ्र ऑडर हमें नुकसान पहुंचाने वाले है. इसलिए इस ऑर्डर को स्वीकार नीहं करेंगे. 

बता दें विरोध कि पिछले साल बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर केरल की एक नन ने रेप का आरोप लगाया था. इस मामले में पांच नन पीड़िता के साथ खड़ी रही थी. और आरोपी बिशप के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग को लेकर हुए प्रदर्शनों में हिस्सा लिया था. साथ ही सभी नन ने मुलक्कल की गिरफ्तारी को लेकर विरोध प्रर्दशन किया था. 

विरोध करने वाली सिस्टर अनुपमा , सिस्टर एनसिटा , सिस्टर एल्फी और सिस्टर जॉसफाइन को तुरंत वापस पुराने कॉन्वेंट में जाने को कह दिया गया है.

बता दें कि नन ने 54 साल के बिशप पर 2014 से 2016 के बीच रेप और अप्राकृतिक सेक्स करने का आरोप लगाया था. जून में कोट्टयाम पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में नन ने आरोप लगाया था कि बिशप ने मई 2014 में कुराविलंगाड़ गैस्ट हाउस में उनका रेप किया और बाद में भी यौन शोषण करते रहे. 

तीन दिनों की पूछताछ के बाद मुलक्कल को पिछले साल 21 सितंबर को पुलिस ने गिरफ्तार किया था. बाद में 24 सितंबर को उन्हें दो हफ्ते की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था बाद में हाईकोर्ट के आरोपी फ्रैंको मुलक्कल को सशर्त जमानत दे दी थी.


 

DO NOT MISS