Law and Order

हिना बशीर बेग एमबीए स्टूडेंट से कैसे बनी ISIS एजेंट?

Written By Amit Kumar Chaudhary | Mumbai | Published:

ISIS से जुड़ी हिना बशीर बेग की इंटेरोगेशन रिपोर्ट से चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। हिना और उसका पति जहानजेब हिंदुस्तान में हो रहे नागरिकता संशोधन कानून प्रोटेस्ट की आड़ में बड़ा आंतकी हमला करने की फ़िराक़ में थे। ये दोनों अलग-अलग नाम से सोशल मीडिया पर प्रोफ़ाइल बनाकर CAA के ख़िलाफ़ लोगों को भड़काते थे। दिल्ली पुलिस ने दोनों को दिल्ली के जामिया नगर, ओखला विहार से 8 मार्च को गिरफ्तार किया था। 

MBA कर चुकी लड़की बन गई जिहादी 

कश्मीर की हिना ने कान्वेंट स्कूल, श्रीनगर से पढ़ाई की है। फिर साल 2003 में पुणे के भारतीय विद्यापीठ से BCA किया। उसके बाद पुणे यूनिवर्सिटी से MBA किया। साल 2007 से 2015 तक कई फ़ेमस कंपनियों में ये काम भी कर चुकी है। वही साल 2015 में उसने अपने भाई जुबैर की पत्नी डलिया सचदेवा से मुलाक़ात की। डलिया हिंदू थी और उसके साथ इस्लाम पर बातचीत और चर्चा के बाद हिना की दिलचस्पी इस्लाम और इस्लामिक रीतिरिवाज में बढ़ने लगी। वो इस्लामिक किताबें पढ़ने लगी। हिना नमाज़ पढ़ने लगी और मॉडर्न कपड़ों की जगह उसने अब हिजाब पहनना शुरू कर दिया। 

इस्लामिक जानकारी बढ़ाने के मक़सद से हिना सोशल मीडिया पर जाकिर नाइक, अहमद मूसा जिब्रिल, साउथ अफ्रीका के मुफ्ती मेंक, यूएस के नोमन अली खान और यासिर काढ़ी, मोहम्मद फैज औरंगाबाद और पाकिस्तान के फ़रहत हाशमी के बयान को सुनने लगी। फ़ेसबुक पर हिना 'स्कॉलर्स ऑफ हक’ के पेज से जुड़ गई ताकि वो इस्लाम के बारे में और पढ़ सके और अपने सवाल पूछ सके। 

फेसबुक ने हिना की प्रोफाइल को कर दिया था डिसेबल 

हिना का असली ब्रेन्वॉश साल 2016 में हुआ। जब वो फ़ेसबुक और गूगल पर ISIS के बारे में खंगालने लगी। वो ISIS से इतनी प्रभावित होने लगी कि वो कई सोशल मीडिया ग्रूप से जुड़ने लगी। जिससे उसे लगा की सीरिया की हालत कश्मीर जैसी है। हिना जल्दी ही आईएसआईएस की फॉलोअर बन गई। हिना सीरिया, इजरायल और फलस्तीन को लेकर इतने पोस्ट करने लगी थी की फ़ेसबुक ने उसका प्रोफ़ाइल 'Hinabeigh' को डिसेबल कर दिया। उसके बाद उसने दूसरी आईडी बना ली थी। भारत को इस्लामिक स्टेट बनाने का कीड़ा हिना के दिमाग़ में ऐसा घुसा की अब वो दिन रात इसी के लिए सोचने लगी। 

जब जहानजेब से मिली हिना

साल 2016 में हिना की मुलाक़ात फ़ेसबुक पर जहानजेब सामी से हुई। कश्मीरी मूल के जहानजेब सामी की विचारधारा इस्लामिक स्टेट को लेकर वही थी जिस ओर हिना तेज़ी से बढ़ रही थी। दोनों सोशल मीडिया पर कई कट्टर पेज से जुड़े हुए थे। इस्लामिक स्टेट की विचारधारा को आगे बढ़ाने और मज़बूत करने के लिए हिना ने जहानजेब से शादी कर ली। फर्जी आईडी से हिना और जहानजेब टेलीग्राम, फेसबुक, थ्रीमा, श्योर स्पॉट, इंस्टाग्राम के साथ-साथ ट्विटर पर भी IS के एजेंडे को आगे बढ़ाते थे। 

सोशल मीडिया पर फैलाई नफरत 

सोशल मीडिया, टेलीग्राम पर हिना आईएसआईएस, सीरिया, फलस्तीन और कश्मीर को लेकर भड़काऊ पोस्ट करने लगी। टेलीग्राम ने उसकी ID डिलीट कर दी थी। उसके बाद उसने अपने पति जहानजेब की वर्चुअल यूएस आईडी की मदद से एक और टेलीग्राम ID बना ली। ट्विटर और इंस्टग्राम पर भी हिना इस्लामिक कट्टर विचारधारा को बढ़ावा देने लगी और सीरिया में मौजूद आतंकियों से जुड़ने लगी। 

कश्मीर में आतंकी नेटवर्क फैलाने की साजिश

जनवरी 2020 तक हिना सीरिया और इराक़ के ISIS के आतंकियों की बीवियों से सम्पर्क में थी और उनके हालत के बारे में फ़ेसबुक पर स्टोरी शेयर करती थी। फेसबुक पर हिना की मुलाक़ात सादिया से हुई। उसके बाद टेलीग्राम पर भी हिना सादिया से बातचीत करने लगी। सादिया वही महिला थी जिसे कश्मीर में पुलिस ने अल-कायदा कमांडर जाकिर मूसा से लिंक होने के आरोप में पकड़ा था, बाद में काउंसलिंग करके उसे छोड़ दिया था। सादिया और हिना लगातार कश्मीर में आतंकी नेटवर्क फैलाने पर बात करते थे। 

जहानजेब लोगों का करता था ब्रेनवाश

हिना जानती थी की उसका पति जहानजेब ISIS, ISKP और दूसरे आतंकी संगठन के संपर्क में हैं जो भारत में और विदेशों में एक्टिव है। इसलिए हिना सोशल मीडिया पर कट्टर मानसिकता वाले लोगों को तलाश कर उनसे बातचीत करने लगी। उसके बाद वो अपने पति जहानजेब से उनका संपर्क करवाने लगी। जहानजेब उन सभी को ब्रेनवाश और रेडिकलाइज कर इस्लामिक स्टेट खुरासान (आईएसकेपी) मॉड्यूल के लिए भर्ती करने लगा।