Law and Order

अमेठी भाजपा नेता हत्याकांड: DGP का बयान - 'तीन संदिग्धों को किया गिरफ्तार, दो अभी भी फरार'

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

मेठी की नवनिर्वाचित सांसद स्मृति ईरानी के खास सहयोगी पूर्व ग्राम प्रधान हत्याकांड में उत्तर प्रदेश पुलिस ने सोमवार को तीन संदिग्धों को गिरफ्तार किया।

पूर्व ग्राम प्रधान की हत्या के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह को निर्देश दिये थे कि इस मामले में तुरंत कड़ी कार्रवाई की जायें।

अमेठी के पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार ने बताया कि इस मामले में पांच लोगों को हत्या और आपराधिक साजिश का आरोपी बनाया गया है, जिसमें से बीडीसी रामचन्द्र, धर्मनाथ और नसीम को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि शेष दो आरोपियो की तलाश में पुलिस टीम लगी हुई है। गिरफ्तार अभियुक्तों के पास से 315 बोर की एक देशी पिस्तौल, कट्टा आदि बरामद किये है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि घटना पुरानी रंजिश के चलते हुई है। प्रधानी के चुनाव के समय से इनमें आपस मे तनाव था और मुकदमे भी चले है। 

एसपी ने लोकसभा चुनाव को लेकर हत्या के संबंध में कहा कि ऐसा कुछ भी सामने नहीं आया है और न ही बीडीसी रामचंद्र कांग्रेस का कार्यकर्ता है।

उधर लखनऊ में पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने यहां पत्रकारों को बताया कि ' हमने अमेठी हत्याकांड में तीन संदिग्धों को गिरफ्तार किया है जबकि दो संदिग्ध अभी भी फरार है ।'उन्होंने बताया कि ' पुलिस ने सात लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी जिसमें से तीन लोगों का संबंध इस हत्याकांड में पाया गया जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।’’

पुलिस महानिदेशक ने बताया, ‘‘पुलिस ने एक तौलियां बरामद किया है जिस पर खून के निशान है, जिसे फोरेंसिक जांच के लिये भेजा गया है। इससे घटना का खुलासा हो जायेगा। इसके अलावा पुलिस इस मामले में परिस्थितिजन्य सबूतों और इलेक्ट्रानिक सर्विलांस का भी सहारा ले रही है।’’ उन्होंने बताया कि दो फरार आरोपियों अतुल सिंह और वसीम की लोकेशन दिल्ली में पायी गयी है। पुलिस की कई टीमें इन आरोपियों की तलाश में लगी है । आरोपियों ने एक मोटरसाइकिल का इस्तेमाल किया था जिसका अभी तक पता नहीं चल पाया।

अपर पुलिस अधीक्षक दयाराम ने रविवार को बताया था कि बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान स्थानीय भाजपा नेता सुरेंद्र सिंह (50) को शनिवार की रात करीब 11.30 बजे अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी । उन्हें गंभीर हालत में इलाज के लिए लखनऊ ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गयी।

उन्होंने बताया कि सुरेन्द्र सिंह की हत्या के मामले में पुलिस ने रविवार को पांच लोगों के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज की।

दयाराम ने बताया था कि वसीम, नसीम, गोलू, धर्मनाथ और बीडीसी सदस्य (ब्लाक डेवलपमेंट कमेटी—क्षेत्र विकास समिति) रामचंद्र के खिलाफ सुरेन्द्र सिंह के हत्या के मामले में धारा 302 (हत्या) और 120-बी (आपराधिक साजिश) के तहत मामला दर्ज किया गया है।