General News

अयोध्या : सीएम योगी बोले - भगवान राम की मूर्ति स्थापित के लिए जगह देखी

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज दिवाली के मौके पर कहा है कि अयोध्या में भगवान श्री राम की एक दर्शनीय मूर्ति स्थापित हो, इसके लिए चर्चा की है.सीएम योगी ने यह भी कहा कि उन्होंने मूर्ति स्थापित करने करने के लिए एक - दो जगह भी देखी है. पूजनीय मूर्ति मंदिर में होगी और दर्शनीय मूर्ति अगल होगी. 

इससे पहले अपने दौरे के दूसरे दिन योगी आदित्यनाथ ने रामजन्म भूमि जाकर रामलला के दर्शन किए. वे हनुमान गढ़ी , दिगंबर अखाड़ा और सरयू घाट भी गए. 

मीडिया से बात करते हुए सीएम योगी ने कहा कहा अयोध्या के दीपोत्सव के कार्यक्रम को देश और दुनिया के सामने सकारात्मक तरीके से प्रस्तुत करने के लिए मैं आपका सबका धन्यवाद करता हूं. मीडिया को को धन्यवाद . 


सरयू नदी पर डेम का निर्माण

सीएम योगी ने कहा ''अयोध्या को लेकर केंद्र और राज्य सरकार ने बहुत सारी योजनाएं बनाई है. और इन योजनाओं को व्यवहारिक धरातल पर उतारने के लिए मैने कई जगहों का सर्वे किया है. इसके लिए टीम कार्य भी कर रही है. अयोध्या और उसके आस पास इलाके के विकास होगा. पावन सरयू नदी की निर्मलता को बनाए रखने के लिए आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं. सरयू नदी में एक डेम का निर्माण किया जाएगा. जैसे हरिद्वार के भीमगोड़ा से गंगा नदी की पावन धारा को हरकी की पैड़ी को ले जाकर आगे बढ़ाया गया है. उसी तर्ज पर अयोध्या में बने जिस पर भगवान राम की पैड़ी में पावन और निर्मल जल पवित्र सरयू जी का आ सके साथ ही सीजन में श्रद्धालु सरयु नदी का पावन जल में डुबकी लगा सके इस प्रकार की एक व्यवस्था अयोध्या में बनाने की तैयारियों के लिए आदेश दे दिए हैं. 

माता कौशल्या के नाम पर आश्रम 

योगी ने कहा कि यहां विधवा और अनाथ बच्चों को लिए एक आश्रम बनाने की योजना है . ये आश्रम माता कौशल्या के नाम पर होगा. सीएम योगी ने कहा अयोध्या हमारी सात धार्मिक, सामाजिक और सांस्कृतिक विरासत को हमने दुनिया के सामने रखा . इससे बहुत अच्छा संदेश पूरी दुनिया में गया है. 


योगी ने कहा दीपोत्सव का कल दूसरा संस्करण संपन्न हुआ. विगत वर्ष जब हमने इस कार्यक्रम को अयोध्या में पहली बार आयोजित किया था. बहुत सारी आशंकाएं थी. बहुत सारे प्रश्न थे. लेकिन सबके सहयोग से सभी कार्यक्रम बहुत अच्छे ढंग से संपन्न  हुए. साऊथ कोरिया को आमंत्रण किया था. वहां के तमाम उच्चस्तरीय प्रतिमंडल ने अयोध्या से अपना संबंध जोड़ करके जिस तरह से दीपोत्सव के कार्यक्रम को जो नया आयाम दिया हैं. वह अभिभूत करने वाला हैं.

DO NOT MISS