General News

पी चिदंबरम जेल में चाहते हैं चश्मा, दवाइयां और वेस्टर्न टॉयलेट

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने एक अलग याचिका दायर कर अनुरोध किया कि उन्हें तिहाड़ जेल में कुछ चीजों की जरूरत होगी जिनमें दवाइयां और पश्चिमी शैली का शौचालय शामिल है।

विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ ने आईएनएक्स मीडिया मामले में बृहस्पतिवार को उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

विशेष न्यायाधीश कुहाड़ ने जब 19 सितंबर तक चिदंबरम को जेल भेजने का अपना आदेश पढ़ा, उनके वकीलों ने अलग अर्जी देकर चश्मा, डाक्टरों द्वारा बतायी गयी दवाइयां ले जाने तथा पश्चिमी शैली के शौचालय की सुविधा मुहैया कराने का अनुरोध किया।

अदालत ने अपने आदेश में कहा कि उन्होंने कहा है कि उन्हें जेड श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त है और इसके मद्देनजर उन्हें पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करने की खातिर जेल अधिकारियों को निर्देश देने के लिए एक और अर्जी दी है।

अदालत ने कहा कि यह अनुरोध भी किया गया है कि पर्याप्त सुरक्षा के साथ अलग कोठरी मुहैया कराई जाए। अदालत ने उनके अनुरोधों को मंजूर कर लिया।

सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने अदालत को आश्वासन दिया कि जेल में चिदंबरम के लिए पर्याप्त सुरक्षा होगी।

बता दें आईएनएक्स मीडिया मामले में अदालत ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को 19 सितम्बर तक यानी 14 दिनों के लिए तिहाड़ जेल भेज दिया है। इससे पहले पी चिदंबरम को सीबीआई ने साउथ एवेन्यू कोर्ट में पेश किया । उनके वकील कपिल सिब्बल ने कोर्ट में कहा कि उनके मुवक्किल ईडी के सामने सरेंडर के लिए तैयार हैं। कपिल सिब्बल ने कहा कि उनके मुवक्किल को न्यायिक हिरासत में नहीं भेजा जाना चाहिए।   कपिल सिब्बल ने कोर्ट से कहा, 'जहां तक सीबीआई की बात है तो चिदंबरम को न्यायिक हिरासत में क्यों भेजा जाना चाहिए? उन्होंने  सभी सवाल पूछ लिए हैं।

वहीं सीबीआई की तरफ से तुषार मेहता ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि यह बड़ा मामला है। सुप्रीम कोर्ट ने भी हमारी दलील मानी है कि चिदंबरम सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं।  हमने कई देशों में लेटर रोगेटरी भेजे हैं। विदेशी खातों में जमा पैसों के साथ छेड़छाड़ कि जा सकती है। दिल्ली की एक अदालत आईएनएक्स मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम को न्यायिक हिरासत में भेजे जाने की सीबीआई की याचिका पर सुनवाई की। 

DO NOT MISS