General News

CBI Vs कोलकाता पुलिस पर बोलीं ममता, ''सुप्रीम कोर्ट का आदेश हमारी नैतिक जीत''

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सीबीआई-कोलकाता पुलिस कमिश्नर मामले में मंगलवार को आए देश की सर्वोच्च अदालत के आदेश को अपनी “नैतिक जीत” बताया जिसमें जांच के दौरान कोलकाता पुलिस प्रमुख राजीव कुमार की गिरफ्तारी समेत कोई भी दंडात्मक कार्रवाई नहीं करने का निर्देश दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने कुमार को खुद को सीबीआई के समक्ष पेश करने और शारदा चिटफंड घोटाले की जांच से सामने आए अन्य मामलों में एजेंसी के साथ ‘‘इमानदारी पूर्वक” सहयोग करने का मंगलवार को निर्देश दिया।

अदालत ने यह भी कहा कि जांच प्रक्रिया के दौरान कोलकाता पुलिस प्रमुख की गिरफ्तारी समेत कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं की जाएगी।

बनर्जी चिट फंड घोटालों के संबंध में कोलकाता पुलिस प्रमुख से पूछताछ करने की सीबीआई की कोशिशों के खिलाफ धरने पर बैठी हुई हैं। रविवार शाम से शुरू हुआ उनका प्रदर्शन मंगलवार को तीसरे दिन भी जारी है।

ममता बनर्जी ने मध्य कोलकाता में धरना स्थल पर मीडिया से कहा कि सर्वोच्च अदालत का आदेश आम आदमी, लोकतंत्र एवं संविधान की जीत है।

इसे भी पढ़ें - सुप्रीम कोर्ट से ममता को बड़ा झटका, पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को CBI के सामने होना होगा पेश

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘इसके पीछे जरूर कोई कहानी है। कोई भी मोदी (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) के खिलाफ बोलने की हिम्मत नहीं कर सकता। यह हमारा जन आंदोलन है और हम एकजुट होकर इसे लड़ेंगे।” 

बनर्जी ने कहा, “हम हमेशा कानून का सम्मान करते हैं और मानते हैं कि चीजें कानून के मुताबिक होनी चाहिए। लेकिन अगर कोई लोकतंत्र के स्तंभों को बर्बाद करने का प्रयास करेगा तो लोकतांत्रिक प्रक्रिया के नाम पर कुछ नहीं बचेगा जिसपर हम गर्व करते हैं।’’ 

उन्होंने कहा, “हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं। यह बिलकुल सही है। हमारा मामला बहुत मजबूत है। हमने कभी नहीं कहा कि हम सहयोग नहीं करेंगे। यह राजनीतिक बदला है।” 

इसे भी पढ़ें - LIVE: पश्चिम बंगाल में CM योगी की रैली को नहीं मिली मंजूरी, सियासी घमासान का हर UPDATE देखें

समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव, तेदेपा प्रमुख चंद्रबाबू नायडू, द्रमुक की कनिमोई, राजद के तेजस्वी यादव समेत कई विपक्षी नेताओं ने बनर्जी के प्रदर्शन को समर्थन दिया है।