General News

"UPA सरकार के समय NPA's को छुपाने की कोशिश हुई, हम इसे जनता के सामने लाए और हल किया": PM मोदी

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार 26 नवंबर को रिपब्लिक समिट 2019 को संबोधित किया। यह दूसरी बार था जब पीएम मोदी रिपब्लिक समिट शिरकत की। रिपब्लिक के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी ने पीएम मोदी का मंच पर स्वागत किया गया, तालियों की गड़गड़ाहट से पूरा हॉल गूंज उठा। समिट में मौजूद लोगों ने प्रधानमंत्री मोदी का अभिवादन किया । 

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए यूपीए के कार्यकाल के दौरान पिछली सरकार के दौरान हुए NPA's और उसे छुपाने के लिए हुई गड़बड़ियों की बात सामने आयी थी।

उन्होंने इस मुद्दे पर विस्तार से बात करत हुए कहा कि मुझे याद है जब 2014 में सरकार बनने के बाद, पिछली सरकार के दौरान हुए NPA's और उसे छुपाने के लिए हुई गड़बड़ियों की बात सामने आयी थी तो क्या स्थिति थी।

पीएम ने आगे कहा कि हमने उस घोटाले को देश के सामने लाकर इससे निपटने का रास्ता बनाया। अब IBC की वजह से करीब 3 लाख करोड़ रूपये की वापसी सुनिश्चित हुई है।

मोदी ने कहा कि ‘तीन तलाक’ के मुद्दे को भी ऐसे ही भय के कारण लम्बे समय तक खींचा गया। गरीब लोगों को भी आर्थिक आधार पर आरक्षण के लाभ से वंचित रखा गया । ऐसा वोट के भय के कारण किया गया ।

उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 को संविधान में अस्थाई कहा गया, लेकिन कुछ परिवारों की वजह से इसे स्थायी मान लिया गया था। ऐसा कर उन्होंने संविधान की भावना का अपमान किया ।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अनुच्छेद 370 और 35ए की वजह से भारत ने जो भोगा है, वो भी आप जानते हैं और कैसे इस चुनौती का समाधान किया गया है, ये भी आपने देखा है ।

उन्होंने कहा, ‘‘ नई सफलताओं के द्वार तभी खुलते हैं, जब जीवन में चुनौतियों को स्वीकार किया जाता है। हमारी सरकार ने न सिर्फ चुनौतियों को स्वीकार किया, बल्कि उनके समाधान को लेकर गंभीरता से प्रयास भी किए हैं ।’’

एनपीए का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा, ‘‘ मुझे याद है जब 2014 में सरकार बनने के बाद, पिछली सरकार के दौरान गैर निष्पादित आस्तियों :एनपीए: और उसे छिपाने के लिए हुई गड़बड़ियों की बात सामने आयी थी । हमने उस घोटाले को देश के सामने लाकर इससे निपटने का रास्ता बनाया ।’’

उन्होंने कहा कि ‘आधार’ ने इनकी सच्चाई सामने लाने में बहुत मदद की। इससे करीब 1.5 लाख करोड़ रुपये गलत हाथों में जाने से बच गए। हर साल लगभग इतनी ही राशि गलत हाथों में पहुंच रही थी और कोई रोकने वाला नहीं था।

प्रधानमंत्री ने कहा कि व्यवस्था में इस बड़ी लीकेज को रोकने का काम हमने किया, क्योंकि हमारे लिए राष्ट्र प्रथम था।

मोदी ने कहा, ‘‘ इन लोगों की चली होती तो देश में जीएसटी भी कभी लागू नहीं हो पाता। हमने राजनीतिक लाभ-हानि की चिंता किए बिना इसे लागू किया। आज सामान्य नागरिक से जुड़ी 99 प्रतिशत चीजों पर पहले के मुकाबले औसतन आधा टैक्स लग रहा है । ’’

उन्होंने कहा कि अब 50 लाख से अधिक दिल्लीवालों को अपने घर और बेहतर जीवन का भरोसा मिला है ।

DO NOT MISS