General News

VVIP हेलीकॉप्टर घोटाला : ईडी ने बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल को गिरफ्तार किया

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदे मामले में कथित बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया. मिशेल को ईडी ने विशेष न्यायाधीश अरविंद कुमार के समक्ष पेश किया और उसे पूछताछ के लिये 15 दिन के लिये हिरासत में देने की मांग की. ईडी ने मिशेल से पूछताछ करने के लिए अदालत से उसकी हिरासत की मांग की थी. इसके बाद अदालत ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को क्रिश्चियन मिशेल से अदालत कक्ष के भीतर 15 मिनट तक पूछताछ करने की अनुमति दी. इसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया. 

ईडी ने धन शोधन मामले में मिशेल की गिरफ्तारी की इजाजत मांगी थी. उसे यूएई में गिरफ्तार किया गया था और प्रत्यर्पण करके चार दिसंबर को भारत लाया गया था. अगले दिन उसे अदालत के समक्ष पेश किया गया जहां अदालत ने उसे पांच दिन के लिये सीबीआई की हिरासत में भेज दिया। उसकी हिरासत अवधि बाद में पांच दिन के लिये बढ़ा दी गई। इसके बाद चार दिन के लिये उसकी हिरासत और बढ़ा दी गई.

अदालत ने मिशेल की जमानत याचिका पर फैसला 19 दिसम्बर को सुरक्षित रख लिया था और उसे 28 दिसम्बर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया था. मिशेल मामले में शामिल तीन बिचौलियों में से एक है. ईडी और सीबीआई इनकी संलिप्ता के संदर्भ में जांच कर रही है. दो अन्य बिचौलिये गुइदो हाश्खे और कार्लो गेरोसा हैं.

इससे पहले क्रिश्चिन मिशेल ने शुक्रवार को अदालत का दरवाजा खटखटा कर तिहाड़ जेल में अलग कोठरी में रखने की अपील की है. 


हाल ही में दुबई से भारत लाए गए अगस्ता वेस्टलैंड स्कैम के आरोपी बिचौलिए मिशेल को 19 दिसंबर को हुई सुनवाई के बाद 28 दिसंब तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया था. सुनवाई के दौरान सीबीआई ने किश्चिन मिशेल के याचिका का विरोध किया था. 

बता दें, अगस्ता वेस्टलैंड या चॉपर गेट स्कैम की नींव साल 1999 में हुई थी. जब इंडियन एयर फोर्स ने भारत के VVIP लोगों के लिए पहले 8 हेलीकॉप्टर जो बाद में 12 हो गए थे उसे भारत में लाने की मांग की थी. साल 2010 में 12 हेलीकॉप्टर की खरीद के लिए अगस्ता वेस्टलैंड के साथ डील हुई थी. हेलीकॉप्टर सौदे में करोड़ों रुपए की दलाली का आरोप लगा है. बता दें, बाद में इस सौदे को भारत की तरफ से रद्द कर दिया था.

रक्षा क्षेत्र से जुड़ी इटली की एक कंपनी जिसका नाम फिनमैकेनिका है बता दें, इसी की सहयोगी कंपनी है अगस्ता वेस्टलैंड. गौरतलब है कि साल 2013 में फिनमैकेनिका और अगस्ता वेस्टलैंड के CEO की गिरफ्तारी हुई थी. इनपर आरोप लगा था कि इन्होंने इस सौदे में घूस दी थी.

अगस्ता वेस्टलैंड को सौदा दिलाने में मिशेल के कथित तौर पर बिचौलिये की भूमिका निभाने और भारतीय अधिकारियों को कथित तौर पर रिश्वत देने की जानकारी साल 2012 में सामने आई थी. जांच के लिए मिशेल की तलाश थी लेकिन वो जांच से बचने के लिए फ़रार हो गए थे. उनके ख़िलाफ बीते साल सितंबर में चार्जशीट दाख़िल की गई थी.

( इनपुट - भाषा से भी )

 

DO NOT MISS