General News

'लैंडर 'विक्रम' चांद की सतह पर हार्ड लैंडिंग किया हो'- इसरो

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के प्रमुख के. सिवन ने रविवार को कहा कि चंद्रयान-2 के लैंडर ‘विक्रम’ के चंद्रमा की सतह पर होने का पता चला है।

सिवन ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘ जी हां, हमें लैंडर ‘विक्रम’ के चंद्रमा की सतह पर होने का पता चला है। ’’

‘हार्ड लैंडिंग’ की वजह से उसे नुकसान पहुंचने के सवाल पर सिवन ने कहा, ‘‘ हमें इस बारे में अभी कुछ नहीं पता।’’

उन्होंने कहा कि ‘विक्रम’ मॉड्यूल से संपर्क स्थापित करने के प्रयास जारी हैं।

गौरलतब है कि भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो द्वारा चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर की ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ का अभियान शनिवार को अपनी तय योजना के मुताबिक पूरा नहीं हो पाया था।

लैंडर को शुक्रवार देर रात लगभग एक बजकर 38 मिनट पर चांद की सतह पर उतारने की प्रक्रिया शुरू की गई, लेकिन चांद पर नीचे की तरफ आते समय 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई पर जमीनी स्टेशन से इसका संपर्क टूट गया।

इसरो के अधिकारियों के मुताबिक चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर पूरी तरह सुरक्षित और सही है।

इसरो चीफ के . सिवन ने  न्यूज एजेंसी से बात करते आत्मविश्वास के साथ कहा कि जल्द ही ऑर्बिटर के जरिए लैंडर विक्रम से संपर्क स्थापित कर लेगा। उन्होंने कहा कि ऑर्बिटर ने लैंडर विक्रम की थर्मल तस्वीर ली है। लेकिन अभी अभी तक संपर्क स्थापित नहीं पाया है। हम संपर्क करने की कोशिश कर रहे है। 

यह भी पढ़े - Chandrayaan-2: चांद पर ऑर्बिटर ने खोज निकाला विक्रम लैंडर, संपर्क करने की कोशिश

DO NOT MISS