General News

अयोध्या सुनवाई से चार दिन पहले विश्व हिन्दू परिषद का ऐलान ' राम मंदिर पर SC के फैसले का इंतजार नहीं करेंगे'

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

सुप्रीम कोर्ट में 29 अक्टूबर से राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई हो जाएगी. इससे चार दिन पहले विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्याध्यक्ष आलोक कुमार ने अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण का ऐलान कर दिया है . उन्होंने इसके लिए समय के साथ -साथ माह भी घोषीत कर दिया है. उन्होंने कहा सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार नहीं करेंगें. हिंदू संतों की उच्चस्तरीय समिति सरकार को अयोध्या में विवादित भूमि में जितनी जल्दी हो सके राम मंदिर के निर्माण के लिए कानून लाने लिए प्रभावित करेगी. 

वहीं उन्होंने विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय और बजरंग दल के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को आह्वान किया है  कि सब कार सेवा के लिए तैयार रहें. इस बार की कार सेवा पहले की तुलना अलग होगी. राम मंदिर के लिए तीन चरण निर्धारित के गए . फिर किसी की प्रतीक्षा नहीं की जाएगी.

दरअसल बुधवार को आगरा में आलोक कुमार विश्व हिन्दू परिषद के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को सरस्वस्वी शिशु मंदिर पुंचकुइयां के सभागार में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने राम मंदिर निर्माण की प्रक्रिया के बारे में विस्तार से जानकारी दी. सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई और उनमें पैदा की जा रही बाधाओं का जिक्र करते हुए बताया कि पांच अक्टूबर को दोबारा से संतों की उच्चाधिकार समिति की बैठक दिल्ली में बुलाई गई. संतो ने दिन भर विचार किया. तब ध्यान में आया कि बीजेपी का प्रस्ताव हैं कि कानून से मंदिर बनाएंगे. अब इस सरकार से कोई उम्मीद नहीं कर सकते है कि वह मंदिर के लिए काम करे ?

आलोक कुमार ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने आयोध्या मामले की सुनवाई के लिए  29 तारीख तय की है , वह इसपर फैसला सुनाएगा या नहीं , पता नहीं है . कोर्ट में हम 68 साल से हैं . संतों ने कहा कि सरकार को अपने बचे हुए कार्यकाल में कानून पास करके राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर बनाने के रास्त की सब बधाओं को दूर कर देना चाहिए.

आलोक कुमार ने कहा तीन चरण में समर्थन जुटाने की आवश्यकता है. दीपावली यह प्रत्येक प्रदेश में धार्मिक और सामाजिक संगठनों के लोग प्रदेश की जनता की ओर से अपने यहां के राज्यपाल को ज्ञापन दें कि जनता राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर बनाना चाहती है. दीपावली के बाद सभी संसदीय क्षेत्रों में बड़ी सभाएं होंगी. उनमें कानून बनाने की बात को दोहराया जाएगा. 

उन्होंने केहा सांसद को कहेंगे कि संसदीय क्षेत्र की जनता मंदिर चाहती है. केवल भाजपा सांसदों को नहीं बल्कि सपा , बसपा, मुस्लिम और कम्युनिस्ट सांसदों को भी कहेंगे. जनता की ओर से चेतावनी भी देंगें. 

उन्होंने कहा कि इसके बाद आप सबको दिसम्बर में कार सेवा के लिए कहेंगे. इस बार मार्ग खुला होगा. सारा अवध झूमेगा . कारसेवकों का स्वागत करेगा. इस बार मंदिर बनाने के लिए कारसेवा होगी. पूरे आगरा को मौका कि सब मिलकर ईंट लगाना. तो - तीन साल में मंदिर बन जाएगा तो वहां जाना और राम से कहाना कि एक ईंट हमने भी लगाई है. मंदिर निर्माण से भारत का सास्कृतित जागरण होगा. हम भारत को सामर्थ्यशाली देश , विश्व गुरु बना पाएंगे.


 

DO NOT MISS