General News

जेवर हवाई अड्डा परियोजना अंतिम स्वीकृति के लिए 15 दिसंबर तक केंद्र के पास भेजने के निर्देश

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नोएडा स्थित जेवर में इंटरनेशनल ग्रीन फील्ड हवाई अड्डे की स्थापना के लिए शेष औपचारिकताओं संबंधी प्रस्ताव आने वाले 15 दिसम्बर तक अंतिम स्वीकृति के लिए केंद्र सरकार के पास भेजे जाने के निर्देश दिए हैं. 

मुख्यमंत्री योगी ने मंगलवार को लोक भवन में जेवर हवाई अड्डे के संबंध में प्रगति की समीक्षा करते हुए कहा कि एयरपोर्ट की स्थापना के लिए भूमि अधिग्रहण और जमीन खरीद की कार्यवाही समयबद्ध तरीके से की जाए. योगी ने इस परियोजना के लिए अन्य कार्यवाहियों और प्रदेश कैबिनेट की मंजूरी के बाद बाकी औपचारिकताओं संबंधी प्रस्ताव आगामी 15 दिसम्बर तक केंद्र सरकार को अंतिम स्वीकृति के लिए भेजे जाने का निर्देश दिया है. 

उन्होंने इसकी स्थापना में आ रही परेशानियों का समाधान जल्द से जल्द किए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के विकास और जनहित में इस एयरपोर्ट की स्थापना के लिए हर संभव मदद करेगी. जेवर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण के लिए किसानों का सहयोग और योगदान मिल रहा है. भूमि के इंतजाम के लिए अधिग्रहण और क्रय कार्यों में तेजी लाई जाए.

इस मौके पर अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि केंद्र सरकार के नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने इसकी स्थापना की सैद्धांतिक सहमति प्रदान कर दी है. केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय, गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय से भी मंजूरी मिल चुकी है. परियोजना के लिए तकनीकी सलाहकार के चयन की प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है.

ये भी पढ़े: फैजाबाद का नाम बदलने को लेकर CM योगी पर बरसे AAP नेता संजय सिंह, फैसले को बताया 'तुगलकी फरमान'

योगी ने कहा कि जेवर में हवाई अड्डे की स्थापना से प्रदेश में विकास के नए आयाम जुड़ेंगे. ये एयरपोर्ट आगरा, मथुरा, गौतमबुद्धनगर सहित अनेक स्थानों की हवाई संपर्क के लिए उपयोगी होगा और उत्तर प्रदेश को राजस्थान, उत्तराखंड और हरियाणा आदि प्रदेशों से जोड़ेगा. जिससे लोगों को बेहतर सुविधा मुहैया कराई जा सकेगी.

ये भी पढ़े: फैजाबाद और इलाहाबाद का नाम बदलने के फैसले पर यूपी कैबिनेट की मुहर

बता दें, हाल ही में यूपी के CM योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में भी एयरपोर्ट के निर्माण की भी घोषणा की थी. जिसका नाम 'मर्यादा पुरुषोत्तम राम' रखने का ऐलान किया था.