General News

...जब एक छात्रा ने पुलिस अधिकारी से पूछा, शिकायत करने पर उन्नाव जैसा एक्सीडेंट तो नहीं होगा ?

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

उत्तर प्रदेश में यहां एक पुलिस अधिकारी को बुधवार को उस वक्त असहज स्थिति का सामना करना पड़ा, जब एक छात्रा ने उनसे पूछा कि पुलिस से शिकायत करने पर आरोपी ने उसका उन्नाव बलात्कार पीड़िता की तरह ‘एक्सीडेंट’ करवा दिया तो क्या होगा? 

बाराबंकी के आनंद भवन विद्यालय में आयोजित बालिका सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रम में अपर पुलिस अधीक्षक (उत्तर) आर एस गौतम छात्राओं को सुरक्षा के प्रति सचेत करते हुए टोल फ्री नंबरों की जानकारी दे रहे थे। तभी एक छात्रा ने उनसे यह सवाल पूछ दिया।

छात्रा ने सवाल किया, ‘‘आपके कहने के मुताबिक अगर हमारे साथ कुछ गलत हुआ तो हम टोल फ्री नंबर पर फोन करके पुलिस को जानकारी दें। लेकिन, हम जिसकी शिकायत कर रहे हैं अगर उसे इस बात का पता चल गया और उसने मेरा एक्सीडेंट करा दिया, तो क्या होगा? ’’ 

छात्रा ने कहा, ‘‘पुलिस मेरी कैसे मदद करेगी? क्या विरोध करने पर मुझे न्याय मिलेगा? क्योंकि उन्नाव में एक लड़की के साथ एक विधायक ने गलत काम किया और अब जब वह उसके खिलाफ लड़ाई लड़ रही है, तो उसका एक्सीडेंट करा दिया गया। जिससे अब वह जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही है।’’ 

हालांकि, छात्रा के सवाल का पुलिस अधिकारी कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। उन्होंने मजह यह कहा कि टोल फ्री नंबर पर फोन करने वाली हर शिकायतकर्ता की पूरी मदद की जाएगी।

उल्लेखनीय है कि जिले में बालिका सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इसके तहत कहीं रैलियां तो कहीं गोष्ठी का आयोजन कर छात्राओं को टोल फ्री नंबरों की जानकारी दी जा रही है।

बता दें उन्नाव रेप पीड़िता की कार एक्सीडेंट मामले की सीबीआई जांच शुरू हो गई है। घटनास्थल पर पहुंची टीम को प्रारंभिक जानकारी मिली है कि हादसे के वक्त पीड़िता की गाड़ी की स्पीड़ ट्रक से ज्यादा थी। जानकारी के अनुसार रायबरेली के गुरुबख्शगंज में जब टक्कर हुई तो उस समय रेप पीड़िता की कार 100 किमी. प्रति घंटे से ज्यादा की रफ्तार से चल रही थी, जबकि ट्रक 70 से 80 किमी/घंटे की स्पीड से था।


ट्रक लहराते हुए दाहिने तरफ आ गया । सामने से आरही कार के चालक ने बचने की कोशिश की , लेकिन उसकी कार ट्रक के पिछले हिस्से से जा टकरायी। 

 

( इनपुट-भाषा से )

DO NOT MISS