General News

उन्नाव कांड पर सबसे बड़ा ख़ुलासा : पुलिस अधिकारी ने बलात्कार के आरोपी को दी क्लीन चिट, कहा, " कुछ गलत नहीं मिला"

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

यूपी के उन्नाव रेप केस में नया मोड़ आ गया है। उन्नाव पुलिस आरोपियों को क्लीनचिट दे रही है। R.भारत ने उन्नाव पुलिस का स्टिंग ऑपरेशन किया है। उन्नाव की रेप पीड़िता दिल्ली में पल-पल मौत से जूझ रही है। पूरे देश में गुस्सा उबाल पर है, लेकिन, यूपी पुलिस आरोपियों को क्लीनचिट दे रही है। 

रिपब्लिक भारत के स्टिंग में  सीके त्रिपाठी (सर्किल ऑफिसर, बिहार पुलिस स्टेशन) ने कैमरे पर पांच आरोपियों को कथित तौर पर बलात्कार के आरोप में बचे हुए लोगों को संदेह का लाभ देते हुए दावा किया कि उनके बयान सही लग रहे हैं। त्रिपाठी ने यह भी कहा कि अभियुक्त के बयान और आधारभूत सबूत के आधार पर उन्हें घटना में कुछ भी असामान्य नहीं मिला है। बता दें, वर्तमान में, पीड़ित वेंटिलेटर पर सफदरजंग अस्पताल में बेहद गंभीर स्थिति में है।

आरोपियों के साथ उन्नाव पुलिस का हाथ?

त्रिपाठी ने कहा "हमने मामले में पूरी तरह से जांच की है, यहां तक ​​कि वैज्ञानिक दल भी यहां आए थे लेकिन हमें इस मामले में कुछ भी असामान्य नहीं मिला है। आरोपी और उसके दोस्तों द्वारा दिए गए सभी बयानों और करोबारियों के साक्ष्य की जांच करने के बाद यह पाया गया कि वे सच कह रहे थे”। 

गौरतलब है कि पुलिस ने 30 नवंबर को मुख्य बलात्कार के आरोपी को जमानत दे दी थी।

त्रिपाठी ने आगे कहा कि मुख्य आरोपी और उसके दोस्त ने खुलासा किया था कि उन्हें पहला फोन सुबह 5: 12 बजे आया था जबकि यह घटना 4:40 - 4:50 बजे हुई थी। उन्होंने यह भी कहा कि कोई भी आरोपी अपराध करने के बाद भाग नहीं था, यहीं नहीं पांच में से चार आरोपी अपने घरों में मिले थे। उन्होंने कहा कि अगर किसी ने पुलिस से डर कर ऐसा अपराध किया होता तो कोई भी भाग जाता।

उन्होंने कहा कि  "आरोपी ने हमें बताया कि घटना के दिन, उसे सुबह 5:12 बजे पहला कॉल आया और उसके दोस्त ने भी यही कहा। वे हर दिन सुबह 5 बजे दौड़ने के लिए एक साथ जाते थे और यह घटना 40 से 4:50 AM के बीच हुई। पुलिस के डर से कोई भी भाग जाता, लेकिन सभी आरोपी हमें उनके घर ही मिले।

DO NOT MISS