General News

मुंबई के गोरेगांव में नाले में गिरा मासूम, CCTV में कैद हुई हादसे की तस्वीर, सर्च ऑपरेशन जारी

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

मुंबई के गोरेगांव में मेनहोल में गिरे बच्चे के लिए सर्च अभियान चलाया जा रहा है।  सत्रह घंटे बाद भी बच्चे का पता नहीं चला है। दिव्यांशु देर रात गटर के मेन होल में गिर गया था।  बच्चे की गटर में गिरने की घटना सीसीटीवी फुटेज भी सामने आई है। दिव्याशु के परिजनों को रो रोकर बुरा हाल है। रेस्क्यू लगातार दिव्यांशु की तलाश कर रही हैं। 

राकांपा और कांग्रेस ने इस घटना को लेकर शिवसेना शासित बृहन्मुंबई महानगरपालिका की आलोचना की और संबंधित निकाय अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। 

बीएमसी के आपदा प्रबंधन इकाई के अधिकारी ने बताया, ‘‘ यह घटना बुधवार की रात करीब 10 बजे हुई। दिव्यांशु नाम का बच्चा अपने घर के बाहर घूम रहा था, इसी दौरान वह गोरेगांव-मलाड लिंक रोड के निकट नाले में गिर गया।’’ 

उन्होंने बताया, ‘‘ बच्चे की मां को दिव्यांशु नहीं मिला तो उसने मदद की गुहार लगाई। इसके बाद इमारत के निकट लगाए गए सीसीटीवी फुटेज में बच्चे को नाले में गिरता देखा गया।’’ 

तत्काल तलाश और बचाव अभियान शुरू किया गया लेकिन बचाव दल अभी तक बच्चे का पता नहीं लगा पाए हैं। 

इलाके में एक डेढ साल का बच्चा खुले मेनहोल में गिर गया।  बच्चे की तलाश में सर्च अभियान चलाया जा रहा है। बच्चे के नाले में गिरने की पूरी घटना वहां पास ही लगे सीसीटीवी में कैद हो गई।  सीसीटीवी की तस्वीरों में दिख रहा है कि। बच्चा खेलते खेलते नाले के पास पहुंच जाता है। और जैसे ही पीछे मुड़ता है। उसका पैर फिसल जाता है।  और वो नाले में गिर जाता है। नाले में पानी का तेज बहाव होने की वजह से वो बह जाता है।

राकांपा के मुख्य प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि इस तरह की घटनाएं निकाय की ‘लापरवाही’ की वजह से हो रही है। वहीं राकांपा के एक वरिष्ठ नेता अजीत पवार ने कहा कि इस तरह की घटनाओं के लिए बीएमसी जिम्मेदार हैं। 

कांग्रेस की मुंबई इकाई के उपाध्यक्ष चरण सिंह सपरा ने कहा, ‘‘ 12 घंटे बीत चुके हैं लेकिन निकाय अधिकारियों और अग्निशमन दल बच्चे का पता नहीं लगा पाए। महापौर विश्वनाथ महादेश्वर को तो इस दुख भरी घटना के बारे में जानकारी भी नहीं है।’’ 

 

DO NOT MISS