General News

इतिहास बनाने में नाकाम रहने वाले इसमें छेड़छाड़ की कोशिश करते हैं: PM मोदी

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:


नयी दिल्ली- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि इतिहास बनाने में नाकाम रहने वाले इसमें छेड़छाड़ का प्रयास करते हैं। मोदी ने इतिहास को उसके वास्तविक रूप में स्वीकार करने एवं किसी विचारधारा द्वारा इसमें छेड़छाड़ नहीं करने देने की जरूरत पर बल दिया।

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के शहीदों पर पहले शब्दकोश के विमोचन के दौरान मोदी ने कहा कि अगर इतिहास को उसके वास्तविक रूप में स्वीकार किया जाता है तो ही यह आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करेगा।

गौरतलब है कि मोदी की पार्टी भाजपा पर विपक्ष अक्सर इतिहास से छेड़छाड़ का आरोप लगाता रहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘इतिहास को विचारधारा के पैमाने पर तोलने के प्रयास होते हैं और इन प्रयासों के कारण कई बार इतिहास से छेड़छाड़ होती है। मुझे लगता है कि इतिहास को इतिहास के रूप में लिया जाना चाहिए... यह आपकी या मेरी विचारधारा से बाध्य नहीं होना चाहिए और हमें इसमें बदलाव नहीं किया जाना चाहिए...बहस चलती रहेगी...’’ 

उन्होंने आरोप लगाया कि जो इतिहास रचने में नाकाम रहते हैं वे ही इसे अपने अनुरूप करने के लिए इसमें छेड़छाड़ करते हैं। 

मोदी ने कहा, ‘‘जो इतिहास नहीं रच सकते, वे कई बार इतिहास को अपने रंग में रंगना चाहते हैं क्योंकि उनमें इतिहास रचने की क्षमता नहीं होती। इतिहास को इन रंगों में रंगने के बजाय, हमें इतिहास को उसी रूप में स्वीकार करना चाहिए जैसा कि वह है और फिर हम देश की महान सेवा करेंगे।’’ 

यह भी पढ़े-  पीएम मोदी ने कहा - देश का वीर जवान सीमा पर अपना पराक्रम दिखा रहा है, देश एकजुट होकर लड़ेगा, एकजुट होकर बढ़ेगा

उन्होंने कहा कि इतिहास की विभिन्न तरीके से व्याख्या की जा सकती है लेकिन तथ्यों को नहीं बदला जा सकता।

पीएम मोदी ने आगे कहा एक मजबूत राष्ट्र कैसा हो सकता है, ये सन्देश विश्व को देने का काम भाजपा की सरकार ने किया है। उरी में आतंकी हमला हुआ तो हमने सर्जिकल स्ट्राइक की। पुलवामा में हमला हुआ तो हमने एयर स्ट्राइक कर आतंकियों के ठिकानों को तबाह कर दिया।

यह भी पढ़े- पाक में एयर स्ट्राइक के बाद और भी कार्रवाई का संकेत देते हुए पीएम मोदी बोले- ये हमारा सिद्धांत है कि घर में घुसकर मारेंगे.

 

DO NOT MISS