General News

PM Modi Interview | पुलवामा हमले पर विपक्ष के आरोपों पर पीएम मोदी ने कहा - मेरी देशभक्ति पर सवाल नहीं

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नंबर वन न्यूज नेटवर्क रिपब्लिक टीवी को धमाकेदार इंटरव्यू दिया। रिपब्लिक भारत के एडिटर इन चीफ़ अर्नब गोस्वामी से बात करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव 2019, राफेल लड़ाकू विमान सौदा, चुनाव आचार संहिता का उल्‍लंघन और 'मैं भी चौकीदार' कैंपेन से जुड़े हर सवाल का बड़ी बेबाकी से जवाब दिया। 

पीएम मोदी ने पुलवामा आतंकी हमले के आरोप पर विपक्ष को जवाब देते हुए कहा का कि पुलवामा हमले के समय उत्तरखण्ड में मेरा टूरिज़्म और एनवायरमेंट को लेकर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम था। जब पुलवामा घटना हुई तो उस वक्त उत्तराखण्ड में बहुत बारिश हो रही थी और उस वक्त वहां मेरी एक रैली भी थी उसी वक्त मुझे पुलवामा हमले का समाचार मिला। तो फिर मैंने यह तय किया है कि मैं रैली को फोन से संबोधित करुंगा लेकिन इतनी बड़ी रैली हो तो ऐसे में ऐसी खबरों की चर्चा नहीं की जाती। जो लोग मुझे जानते हैं उन्हें अच्छी तरह पता है कि बिहार में साल 2013 के अक्टूबर में मेरी रैली चल रही थी और वहां बम धमाके हो रहे थे। अगर मैं उस वक्त थोड़ा भी बैलेंस खो देता और इस चीज को अपने तरीके से हैंडल नहीं करता तो बहुत बड़ी घटना हो जाती। तो ऐसी स्थिति में बहुत संतुलित व्यवहार करने की जरूरत होती है उसको अगर कोई राजनीति मुद्दा बनता है तो वो उनकी नासमझी है और कुछ नहीं ।

पीएम मोदी ने कहा कि पुलवामा के बाद मेरा मानना था कि ऐसे समय देश की आशा के अनुरूप हमारा व्यवहार होना चाहिए । अब ENOUGH IS ENOUGH और इसलिए मैंने कहा था कि सेना को मेरी तरफ से इसपर कार्रवाई करने के लिए खुली छूट है। पुलवामा पर सवाल करने वाले नासमझ हैं, मैंने फौज को प्लान बनाने की खुली छूट दी। जवानों की बात हो तो मैं अलग कैसे रहता, एयरस्ट्राइक पर पूरी तरह से मेरी नजर थी। पुलवामा को लेकर मुझ पर हमला करने वालों को जनता ने जवाब दिया। 

बता दें बालाकोट में आतंकी शिविर पर एयरस्ट्राइ से पहले ममता बनर्जी ने कहा था कि लोकसभआ चुनाव से पहले केंद्र सरकार को युद्ध की आवश्यकता महसूस हुई। '' अगर पाक के लोगों ने पुलवामा हमला किया है तो आपने उन्हें कैसे करने दिया ? पिछले पांच वर्षों  में आपने क्या कार्यवाही की है? जब चुनाव दरवाजे पर दस्तक दे रहा है, तो आपको युद्ध छेड़ने की जरूरत महसूस हुई है।  चुनाव से पहले आपको लोगों के जिंदगी के साथ खेलने की जरूरत महसूस हुई है।  

वहीं पुलवामा हमले के बाद एनसीपी नेता अनवर ने कहा था कि यह मोदी सरकार को सीआरपीएफ जवानों के बहुमूल्य जीवन की हानि के लिए जवाब देह ठहराया जाना चाहिए। क्योंकि मोदी सरकार ने सुरक्षाकर्मियों के एयरलिफ्टिंग के अनुरोध पर कोई ध्यान नहीं दिया ।'' 

इसपर पीएम मोदी ने कहा,  ''इस प्रकार की सोच देश के किसी राजनीतिक दल के नेतृत्व के पास है, तो चिंता देश को करनी चाहिए कि ऐसी सोच के लोग राजनीतिक स्वार्थ के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं, जबकि इतनी बड़ी घटना के बाद से सारी दुनिया का हमें समर्थन है, पूरी दुनिया में आतंकवाद मुद्दा बन चुका है, विश्व में आतंकवाद के खिलाफ चल रही लड़ाई में भारत नेतृत्व कर सकता है, तो ऐसी गंदी राजनीति करके हमे देश का कितना नुकसान कर रहे हैं, इसका भी इन्होंने सोचा नहीं, मुद्दा मोदी नहीं है, ये सारे देश के लिए बहुत बड़े खतरे की घंटी है अगर इस तरह की सोच और भाषा प्रयोग होती है।''
 

DO NOT MISS