General News

वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ का बड़ा बयान, कहा- 'गेम चेंजर साबित होगा चिनूक'

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

चिनूक हेलीकॉप्टर को लेकर इंडियन एयर फोर्स के चीफ बीएस धनोआ का बयान सामने आया है। वायुसेमा प्रमुख धनोआ ने कहा है कि चिनूक देश के लिए गेम चेंजर साबित होगा। ये हेलीकॉप्टर मिलिट्री ऑपरेशन में भाग ले सकता है और दिन-रात के ऑपरेशन में सक्षम है। 

यानि की बीएस धनोआ ने इनडायरेक्टली पाकिस्तान और चीन को चेतावनी दी है कि वे भारत की तरफ आंख उठाने की भी कोशिश न करे। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जब अमेरिका ने पाकिस्तान में घुसकर लादेन को मारा था तब उस ऑपरेशन में इसी हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल किया गया था।

चिनूक की खासियत

स्‍पेशल ऑपरेशन के लिए चिनूक हेलीकॉप्टर बेहद ही खास है। ये हेलीकॉप्टर एडवांस्ड मल्टी मिशन हेलीकॉप्टर है, जिसमें हवा में ही तेल भर लेने की क्षमता है और ये डबल इंजन से लैस है। चिनूक हेलीकॉप्टर वर्टिकल लिफ्ट प्लेटफॉर्म हेलीकॉप्टर है। इसकी खासियत है कि ये ऊंचाई वाले इलाकों में बेहद मददगार साबित हो सकता है। स्‍पेशल फोर्सेस के लिए तैयार किए गया ये हेलीकॉप्टर राहत, लड़ाकू भूमिका में अहम रोल निभा सकता है। साथ ही ये बड़ी संख्या में लोगों को बचाने में उपयोगी है। भारी वजन, सैनिक साजो-सामान उठाने के साथ हथियार, उपकरण, ईंधन ढोने में मददगार है। इसमें एकीकृत डिजिटल कॉकपिट मैनेजमेंट सिस्टम है। चिनूक में कॉमन एविएशन आर्किटेक्चर कॉकपिट है ये हर भौगोलिक स्थिति में काम करने में सक्षम है। ये हेलीकॉप्टर 315 KM की रफ्तार से उड़ान भर सकता है। इसकी 
वियतनाम, लीबिया युद्ध में निर्णायक भूमिका रही है और इराक, ईरान,अफगानिस्‍तान युद्ध में भी चिनूक ने अहम भूमिका निभाई थी। चिनूक हेलीकॉप्टर अमेरिका के सबसे तेज हेलीकॉप्‍टर में से एक है अभी 26 देशों के पास चिनूक हेलीकॉप्टर है।

कब और कैसे हुआ करार?

  • अमेरिका से रक्षा करार के बाद मिले
  • सितंबर 2015 में भारत-अमेरिका में करार
  • 15 चिनूक हेलीकॉप्टर का करार किया गया
  • वायुसेना में पहली बार अमेरिकी हेलीकॉप्टर
  • अभी 4 चिनूक हेलीकॉप्टर मिले 

स्‍पेशल ऑपरेशन के लिए खास हेलीकॉप्टर चिनूक किन देशों के पास कितनी तादाद में है, यहां नीचे पढ़ें

किसके पास कितने चिनूक

ब्रिटेन - 24 
नीदरलैंड्स - 17 
कनाडा - 15 चिनूक 
सिंगापुर - 15 चिनूक 
ऑस्ट्रेलिया - 10 चिनूक 

DO NOT MISS