General News

VIDEO: जिस घर के लिए आकाश विजयवर्गीय ने चलाए थे 'अधिकारी पर बल्ले', उसे नगर निगम ने ऐसे किया जमींदोज

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की हरी झंडी मिलने के तीन दिन बाद इंदौर नगर निगम ने यहां गंजी कम्पाउंड क्षेत्र में दो मंजिल की जर्जर इमारत को शुक्रवार को आखिरकार ढहा दिया। इस मकान को ढहाये जाने की मुहिम के विरोध के दौरान नौ दिन पहले भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय (34) ने नगर निगम के एक भवन निरीक्षक को क्रिकेट के बैट से पीट दिया था।

अधिकारियों ने बताया कि भाजपा विधायक के साथ बड़े विवाद की जड़ रहे जर्जर मकान को यहां पिछले 24 घंटे से जारी बारिश के बीच ढहाया गया।

नगर निगम आयुक्त आशीष सिंह ने "पीटीआई-भाषा" को बताया, "गंजी कम्पाउंड क्षेत्र के जर्जर मकान को अर्थमूविंग मशीन की मदद से घंटे भर में ढहा दिया गया। पुरानी निर्माण शैली का यह मकान इतना कमजोर हो चुका था कि अर्थमूविंग मशीन के चंद पंजे पड़ते ही भरभराकर गिर गया।" 

उन्होंने बताया कि जर्जर मकान को ढहाये जाने की मुहिम के दौरान मौके पर एहतियात के रूप में पुलिस बल की तैनाती की गयी थी।

सिंह ने बताया कि इस जीर्ण-शीर्ण मकान को ढहाने का फैसला इसलिये किया गया, क्योंकि दशकों पुरानी इमारत बारिश के मौसम में जान-माल के लिये खतरनाक साबित हो सकती थी।

नगर निगम आयुक्त ने बताया कि मामले में उच्च न्यायालय की इंदौर पीठ के आदेश का पालन करते हुए प्रभावित परिवार को भूरी टेकरी क्षेत्र में बनायी गयी एक बहुमंजिला इमारत के फ्लैट मुहैया कराया गया है। यह परिवार इस मकान में तीन महीने तक अस्थायी तौर पर रह सकता है। यह इमारत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिये बनायी गयी है।

गंजी कम्पाउंड क्षेत्र के जर्जर मकान में बरसों से किरायेदार की हैसियत से रह रहे श्रीवंश परिवार ने इस इमारत को जमींदोज करने के नगर निगम के फैसले के खिलाफ उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। अदालत ने इस निर्णय के अमल पर रोक लगाये जाने की गुहार मंगलवार को हालांकि खारिज कर दी थी। लेकिन याचिकाकर्ता को फौरी राहत प्रदान करते हुए शहरी निकाय को आदेश दिया था कि मकान ढहाये जाने से पहले प्रभावित परिवार को दो दिन के भीतर अस्थायी निवास की वैकल्पिक सुविधा मुहैया करायी जाये।

गंजी कम्पाउंड क्षेत्र के संबंधित मकान को ढहाने की मुहिम के विरोध के दौरान 26 जून को को बड़ा विवाद हुआ था। इस दौरान भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय (34) ने नगर निगम के एक भवन निरीक्षक को क्रिकेट के बैट से पीट दिया था। आकाश, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं। वह बल्ला कांड में गिरफ्तारी के बाद जिला जेल से रविवार सुबह जमानत पर रिहा हुए थे।
 

DO NOT MISS