General News

अगस्ता वेस्टलैंड केस: 5 दिन और CBI हिरासत में रहेगा 'बिचौलिया' क्रिश्चियन मिशेल

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर घोटाले के मामले में क्रिश्चियन मिशेल के CBI हिरासत की अवधि बढ़ा दी गई है. सीबीआई ने मिशेल की कस्टडी बढ़ाने की मांग की थी. जिसके बाद बिचौलिए मिशेल की सीबीआई हिरासत 5 दिन बढ़ाने पर मुहर लग गई है.

रिपब्लिक टीवी को मिली जानकारी के मुताबिक CBI ने 9 दिन की हिरासत बढ़ाने की मांग की थी. सीबीआई के इस अनुरोध के बाद मिशेल को 5 दिन की अतिरिक्त हिरासत का विस्तार किया गया है. आरोपी क्रिश्चियन को पहले पांच दिन की सीबीआई हिरासत में भेजा गया था जिस दौरान उनसे पूछताछ के लिए मिला वक्त कम पड़ गया था. 

इसे लेकर CBI का कहना है कि हमें उससे पूछताछ करने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिला. हमें मिशेल के साथ एक लंबा अनुक्रम मिला लेकिन उसने जवाब नहीं दिया. सीबीआई ने कहा, "हमने उन्हें कुछ दस्तावेजों से सामना किया है. प्रत्यक्ष सवाल उनके सामने आए थे, लेकिन मिशेल ने अपनी चुप्पी बरकरार रखी है. पूछताछ चल रही है, लेकिन हम उससे पूछताछ करने के लिए और अधिक समय चाहते हैं."

सूत्रों के अनुसार, क्रिश्चियन मिशेल अब तक जांच में गैर-सहकारी रहे हैं, ये बताते हुए कि वो पढ़ और लिख नहीं सकते क्योंकि वो डिस्लेक्सिया का रोगी है. दिलचस्प बात ये है कि मामले में एक और बिचौलिया, गिडो हसके ने भी मिशेल के बारे में अधिकारियों को यही बताया कि वो 'पढ़-लिख नहीं सकता' है.

सीबीआई ने आगे अधिसूचित किया कि पांच अलग-अलग देशों से साक्ष्य के टुकड़ों के साथ एक उत्पीड़ित मिशेल का सामना किया जा रहा है. उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि मिशेल के वकील हर सुबह और शाम को "ट्यूटरिंग" कर रहे हैं. जिस पर आरोपी का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील अल्जो के जोसेफने सीबीआई के दावों से इंकार कर दिया है.

वकील ने घोषणा की, "सीबीआई कह रही है कि हम जांच के साथ सहयोग नहीं कर रहे हैं पूरी तरह झूठ है." उन्होंने आगे कहा कि फैसले में निष्कर्ष हैं कि मैं जांच के साथ सहयोग कर रहा हूं. उनके खिलाफ कोई संदिग्ध सामग्री नहीं दिखाई गई है. ये उन्हें यातना देने का एक तरीका है.

सीबीआई ने मिशेल द्वारा लिखे गए दो पत्र रखे, आरोप लगाया कि वो उन्होंने ही लिखा है. 

गौरतलब है कि इस मामले में क्रिश्चियन मिशेल को मंगलवार की रात भारत लाया गया था. इसे एक बड़ी सफलता के तौर पर देखा जा रहा है. रात के करीब 10:44 बजे क्रिश्चियन मिशेल को भारत लाने वाली विमान दुबई से आकर दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरी था. 

बता दें, अगस्ता वेस्टलैंड या चॉपर गेट स्कैम की नींव साल 1999 में हुई थी. जब इंडियन एयर फोर्स ने भारत के VVIP लोगों के लिए पहले 8 हेलीकॉप्टर जो बाद में 12 हो गए थे उसे भारत में लाने की मांग की थी. साल 2010 में 12 हेलीकॉप्टर की खरीद के लिए अगस्ता वेस्टलैंड के साथ डील हुई थी. हेलीकॉप्टर सौदे में करोड़ों रुपए की दलाली का आरोप लगा है. बता दें, बाद में इस सौदे को भारत की तरफ से रद्द कर दिया था.

रक्षा क्षेत्र से जुड़ी इटली की एक कंपनी जिसका नाम फिनमैकेनिका है बता दें, इसी की सहयोगी कंपनी है अगस्ता वेस्टलैंड. गौरतलब है कि साल 2013 में फिनमैकेनिका और अगस्ता वेस्टलैंड के CEO की गिरफ्तारी हुई थी. इनपर आरोप लगा था कि इन्होंने इस सौदे में घूस दी थी.

अगस्ता वेस्टलैंड को सौदा दिलाने में मिशेल के कथित तौर पर बिचौलिये की भूमिका निभाने और भारतीय अधिकारियों को कथित तौर पर रिश्वत देने की जानकारी साल 2012 में सामने आई थी. जांच के लिए मिशेल की तलाश थी लेकिन वो जांच से बचने के लिए फ़रार हो गए थे. उनके ख़िलाफ बीते साल सितंबर में चार्जशीट दाख़िल की गई थी.

DO NOT MISS