General News

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा, ''कई सिर वाले एक राक्षस की तरह अपने पैर पसार रहा है आतंकवाद''

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने आतंकवाद को युद्ध का एक नया तरीका बताते हुए बुधवार को कहा कि ये ‘‘कई सिर वाले राक्षस’’ की तरह अपने पैर पसार रहा है और ये ‘‘तब तक मौजूद रहेगा’’, जब तक देश राष्ट्र की नीति के तौर पर इसका इस्तेमाल करना जारी रखेंगे.

‘रायसीना डायलॉग’ के दौरान यहां एक पैनल चर्चा में रावत ने कहा कि सोशल मीडिया कट्टरपंथ को फैलाने का जरिया बन रहा है, इसलिए इसे नियंत्रित किए जाने की आवश्यकता है.

उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर समेत भारत में अलग अलग तरह का कट्टरपंथ दिखाई दे रहा है. बहुत सी गलत एवं झूठी जानकारियों के कारण युवाओं के अंदर कट्टरता की भावना आ रही है और धर्म संबंधी कई झूठी बातें उनके मनमस्तिष्क में भरी जा रही हैं.

जनरल रावत ने कहा, ‘‘इसलिए आप अधिक से अधिक शिक्षित युवकों को आतंकवाद की ओर बढ़ते देख रहे हैं.’’ 

उन्होंने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा कि देश जब तक राष्ट्र की नीति के तौर पर आतंकवाद को बढ़ावा देते रहेंगे, तब तक ये मौजूद रहेगा.

जनरल रावत ने कहा, ‘‘आतंकवाद युद्ध का एक नया तरीका बनता जा रहा है. एक कमजोर देश दूसरे देश पर अपनी शर्तें मानने का दबाव बनाने के लिए आतंकवादियों का इस्तेमाल कर रहा है.’’ 

उन्होंने कहा कि आतंकवाद कई सिर वाले एक राक्षस की तरह अपने पैर पसार रहा है.

जनरल रावत ने अफगानिस्तान की शांति प्रक्रिया पर कहा कि तालिबान से बातचीत होनी चाहिए, लेकिन यह बिना किसी शर्त के होनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि आतंकवाद तालिबान का हमेशा छिपकर साथ देता रहा है और उसे इस बारे में चिंता करनी चाहिए.

बता दें, इससे पहले भी आर्मी चीफ बिपिन रावत ने पाक PM को लताड़ा था उन्होंने आक्रोशित अंदाज में कहा था कि 'आतंक और बातचीत एक साथ संभव नहीं है.

पाक PM को बिपिन रावत ने नसीहत देते हुए आतंकवाद के मुद्दे पर कटघरे में खड़ा कर दिया था. 

इसे भी पढ़ें - आर्मी चीफ बिपिन रावत ने पाक PM को लताड़ा, 'आतंक और बातचीत एक साथ संभव नहीं'

इमरान खान को लताड़ लगाते हुए आर्मी चीफ रावत ने कहा था, 'सबसे पहले आप कदम बढ़ाइये... हम कई बार कोशिश कर चुके हैं. पहले आप ग्राउंड लेवल पर काम करिए उसके बाद बोलिए. हमने आतंकवाद के मसले पर आपसे कई बार बात की है. पहले आप इस पर काम करो.'

DO NOT MISS