General News

तेलंगाना के मुख्यमंत्री KCR ने PM मोदी से की मुलाकात

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने बुधवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की.

हाल ही में हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में तेलंगाना भी शामिल था. तेलंगाना विधानसभा चुनाव में शानदार जीत हासिल कर के KCR ने राज्य की कमान दोबारा संभाली. सीएम की कुर्सी दोबारा संभालने के बाद के चंद्रशेखर राव की मोदी से ये पहली मुलाकात है.

KCR ने पीए मोदी से मुलाकात के दौरान 10 पिछड़े जिलों के लिए धन जारी करने, तेलंगाना के लिए अलग उच्च न्यायालय की स्थापना करने, नए जिले में केंद्रीय विद्यालयों का निर्माण करने और करीमनगर जिले में एक IIT बनाने जैसे अनेक मुद्दों पर चर्चा की.

मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिए लेटर में 16 मुद्दों का जिक्र किया गया..

 

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव सोमवार रात से ही दिल्ली आए हुए हैं. मिली ख़बर के मुताबिक वो बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती से भी मुलाकात करेंगे. 

बताया जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी और इंडियन नेशनल कांग्रेस की गैरमौजूदगी वाले क्षेत्रीय दलों का गठजोड़ बनाने की कवायद को आगे बढ़ाने के लिए तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की कवायद को तेज करने के मकसद से वो दिल्ली पहुंचे है. हालांकि मायावती से मुलाकात कर के इस कवायद को तेज करना कोई पहली कड़ी नहीं है. इससे पहले भी राव ने कई अन्य नेताओं से मुलाकात कर चुके हैं.

अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर सीएम के चंद्रशेखर राव ने सोमवार को कोलकाता में तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और रविवार को ओडिशा के मुख्यमंत्री एवं बीजू जनता दल (बीजेडी) के अध्यक्ष नवीन पटनायक से मुलाकात की थी.

इसके अलावा बुधवार को ही समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के भी सुर बदले-बदले दिखाई दिए.

इसे भी पढ़ें - तीसरे मोर्चे को लेकर कांग्रेस के ''गठबंधन'' में दरार! कुछ यूं बदले अखिलेश यादव के सुर

उन्होंने कहा, ''मैं बधाई देता हूं तेलंगाना के मुख्यमंत्री जी को कि इस प्रयास में वो काम कर रहे है. मेरी उनसे बात हुई थी और 25 या 26 को मिलना था लेकिन मैं दोबारा उनसे समय मांगूंगा और मैं खुद उनसे मिलने हैदराबाद जाउंगा. आने वाले समय में उनका भी एकर प्रयास है कि किस तरीके से रिजनल पार्टी या एक फेडरल फ्रंट बने.

DO NOT MISS