General News

राहुल गांधी के इस्तीफे से कांग्रेस के पुनर्गठन में मदद मिलेगी : शिवेसना

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

शिवसेना ने बुधवार को उम्मीद जताई की कांग्रेस अध्यक्ष के पद से राहुल गांधी के इस्तीफे से मुख्य विपक्षी पार्टी में पुनर्गठन की राह बनेगी तथा 133 साल पुराने संगठन में बदलाव की बयार आएगी।

पद छोड़ने की अपनी मंशा ज़ाहिर करने के एक महीने से ज़्यादा समय बाद गांधी ने बुधवार को कांग्रेस प्रमुख पद से औपचारिक रूप से त्याग पत्र दे दिया और कहा कि वह लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार के लिए जिम्मेदार हैं तथा भविष्य में पार्टी को आगे बढ़ाने के लिए जवाबदेही अहम है।

शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में गांधी के इस्तीफे के साथ कांग्रेस ‘गांधी परिवार मुक्त’ हो गई है।

उन्होंने कहा, ‘‘ मोदी के तूफान में राहुल गांधी उड़ गए। मोदी के कार्यकाल में कांग्रेस ‘गांधी परिवार मुक्त’ हुई है।’’ 

राउत ने कहा, ‘‘ कांग्रेस की जड़े अब भी मज़बूत हैं और उसे इस मौके का इस्तेमाल खुद को पुनर्गठित करने के लिए करना चाहिए।’’ 

राउत ने कहा कि गांधी के इस्तीफे से बदलाव का एक दौर शुरू होगा जिसमें कांग्रेस गांधी परिवार के वर्चस्व से मुक्त होगी और इस घटनाक्रम को इतिहास में लिखा जाएगा।

भाजपा की अहम सहयोगी पार्टी के प्रवक्ता राउत ने कहा, ‘‘ कांग्रेस की आलोचना होती है कि उसमें एक पार्टी का वर्चस्व है और इसके चलते बहुत से मतदाता पार्टी से दूर हो गए। यह घटनाक्रम अहम है।’’ 

महाराष्ट्र के कांग्रेस नेताओं ने भी गांधी के इस्तीफे पर प्रतिक्रिया दी है।

पार्टी नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि गांधी ने अपने इस्तीफे का औपचारिक ऐलान कर दिया है जिससे सारी अटकलें खत्म हो गई हैं। 

केंद्र सरकार में भी मंत्री रहे चव्हाण ने कहा कि निर्णय करने वाली पार्टी की सर्वोच्च निकाय कांग्रेस कार्य समिति उनके उत्तराधिकारी पर फैसला करेगी।

कांग्रेस के अन्य नेता संजय निरूपम ने घटनाक्रम को कांग्रेस के इतिहास में ‘दुखद दिन’ बताया।

उन्होंने कहा कि गांधी अब तक के कांग्रेस के सबसे मेहनती, बुद्धिमान, समर्पित और संवेदनशील अध्यक्ष रहे हैं।

निरूपम ने कहा, ‘‘ उन्होंने पार्टी में दोबारा ऊर्जा भरने के लिए कड़ी मेहनत की। उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनाव की हार दिल पर ले ली और पद छोड़ने का अप्रत्याशित निर्णय किया।’’ 

पूर्व सांसद ने कहा कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन के लिए अन्य नेताओं की जवाबदेही भी तय होनी चाहिए।

निरूपम ने आरोप लगाया कि चुनाव प्रक्रिया को सत्तारूढ़ गठबंधन ने प्रभावित किया और इस वजह से विपक्ष हारा।

DO NOT MISS