General News

सऊदी के ऊर्जा मंत्री ने कहा - भारतीय उभोक्ताओं को लेकर PM मोदी काफी मुखर, ओपेक कच्चे तेल में कटौती से पहले उनकी राय पर करेगा विचार

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

कच्चे तेल के उत्पादक में कटौती को लेकर बड़े तेल उत्पादक देश अंतिम फैसला करने वाले हैं. इससे पहले सऊदी अरब के उर्जा मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विचारों पर गौर किया जाएगा. ''उन्हें भारतीय उपभोक्ताओं की चिंता है. और उसे लेकर वह बहुत गंभीर हैं. मैंने भारत में भी उन्हें तीन ऊर्जा कार्यक्रमों में देखा . जहां वह काफी मुखर थे. ''  

सऊदी के उर्जा मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र  मोदी अपने विचारों को पूरी मजबूती से रखते हैं और उन्हें भारतीय उपभोक्ताओं की चिंता है. सऊदी ऊर्जा मंत्री ने पीएम मोदी के साथ पहले की तीन बैठकों को भी याद किया . उन्होंने कहा कि प्राइमिनिस्टर भारतीय उपभोक्ताओं को लेकर काफी मुखर रहे हैं. खालिद अल फालिह ने यह भी कहा कि उपभोक्ता विचार-विमर्श का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, भले ही वह खुद कमरे में मौजूद न रहें.


दिलचस्प बता यह है कि सऊदी के ऊर्जा मंत्री खालिद उल फालिह से अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के विचारों को लेकर सवाल किया गया था. लेकिन उल फालिक ने फौरन आगे जोड़ दिया कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बातों पर बी गौर किया जाएगा. 

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी ट्वीट कर ओपेक को सुझाव दिए. 

सऊदी उर्जा मंत्री ने पिछले हफ्ता आयर्स में G20 मीटिंग से इतर भारत और सऊदी अरब के बीच हुई द्विपक्षीय बैठक का भी जिक्र किया . 


दरअसल , उर्जा मंत्री खलील ने कहा कि तेल निर्यातक देशों का संगठन ओपेक गिरती कीमतों को थामने के लिए निर्यात में कटौती पर फैसले से पहले प्रधानमं6ी नरेंद्र मोदी सहित दुनियाभर के नेताओं के बयान पर गंभीरता से विचार किया जाएगा. भारत तेल का उयोग कनरे वाला दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश है. भारत अपनी उर्जा संबंधी 80 फिसदी जरूरतों को पूरा कनरे के लिए आयात पर निर्भर है. मोदी की अगुआई में विश्व नेताओं ने ओपेक से कच्चे तेल की  उचित और जवाबदेह कीमत तय करने को कहा था. 

DO NOT MISS