General News

RTI में हुआ खुलासा, मोदी सरकार में सशक्त हुई देश की आंतरिक सुरक्षा

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

भारत पर हमेशा सीमा पार से हो रहे आतंकी हमलों का साया बना रहता है। लेकिन पिछले 5 साल में भारत की आंतरिक सुरक्षा में किस तरह का बदलाव आया है उसका सबूत गृह मंत्रालय द्वारा एक आरटीआई के जवाब में दिया गया है। 

जम्मू के रहने वाले आरटीआई एक्टिविस्ट रोहित चौधरी द्वारा गृह मंत्रालय से एक आरटीआई में यह जवाब मांगा गया था कि पिछले 15 सालों में देश के आंतरिक इलाकों में आतंक की कुल कितनी घटनाओं में जान-माल का कितना नुकसान हुआ है।  इसी के जवाब में गृह मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों से पता चलता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली एनडीए सरकार के पिछले 5 साल में देश के आंतरिक इलाकों में मात्र छह बड़ी आतंकी घटनाएं हुई हैं जिनमें 11 लोगों की मृत्यु हुई है।

गृह मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों की खास बात यह है कि अगर इन्हें कांग्रेस की अध्यक्षता वाली युपीए के 5 साल से मापा जाए तो यह संख्या जानमाल के नुकसान का लगभग 1% है। आरटीआई के जवाब में यह खुलासा हुआ है कि कांग्रेस की अध्यक्षता वाली यूपीए वन की सरकार में देश के आंतरिक इलाकों में 26 बड़े आतंकी हमले हुए जिनमें 766 लोगों ने अपनी जान गवाई वही 2601 लोग घायल हुए थे।  यूपीए-2 में आतंकी हमलों में जरूर कमी आई लेकिन मृतकों की संख्या फिर भी काफी ज्यादा थी। यूपीए-2 के दौरान हुए 15 बड़े आतंकी हमलों में 84 लोगों ने अपनी जान गवाई वही 549 लोग इन आतंकी हमलों में घायल हुए थे। 

वहीं अगर बात यूपीए वन और यूपीए-2 के दौरान हुए संयुक्त आतंकी हमलों की करें तो इस 10 साल के कार्यकाल में 41 बड़े आतंकी हमलों में 853 लोगों ने अपनी जान गवाई वही 3150 लोग घायल हुए।

आंतरिक इलाकों की सशक्त हुई सुरक्षा का श्रेय जम्मू कश्मीर जैसे आतंकी इलाकों में सेना के लगातार जारी ऑपरेशन ऑल आउट को भी जाता है जिसमे लगातार आतंक के सरगनाओं को सेना निपटा रही है। रोहित चौधरी की एक अन्य आरटीआई के जवाब में गृह मंत्रालय ने बताया है कि कश्मीर घाटी में जारी ऑपरेशन ऑल आउट से आतंकी संगठन बौखलाए हुए हैं और लगातार बड़ी आतंकी घटनाओं को अंजाम देकर सैनिकों और आम नागरिकों को निशाना बनाने की कोशिश में लगे हैं।

2019 के पहले 4 महीनों में कश्मीर घाटी में आतंकी 177 घटनाओं में 11 आम नागरिकों की मौत हुई है वहीं 61 सुरक्षाबलों ने आतंक से लड़ते हुए शहादत दी है। इस दौरान  सुरक्षाबलों ने जाकिर मूसा समेत कई बड़े आतंकी कमांडरों का भी खात्मा करने में सफलता पाई है। अब तक 2019 में सुरक्षाबलों ने घाटी में हुए विभिन्न एनकाउंटर में 86 से ज्यादा आतंकियों को मौत के घाट उतारा है।

स्टोरी कर्टसी - गुरसिमरन सिंह