General News

Republic Summit 2018 | पूर्व COAS जनरल बिक्रम सिंह और इज़राइल के ब्रिगेडियर जनरल ने वैश्विक आतंक के मसले पर चर्चा की

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

Republic Summit 2018 के आगाज पर पूर्व आर्मी स्टाफ चीफ (COAS) बिक्रम सिंह और इज़राइल के ब्रिगेडियर जनरल Nitzan Nuriel ने इसके आयोजन की सराहना की. और आतंकवाद से होने वाले ख़तरों के बारे में चर्चा की. 

इज़राइल के ब्रिगेडियर जनरल Nitzan Nuriel से मेजर गौरव आर्य ने आतंकवाद के खिलाफ अपने देश के स्टैंड के बारे में पूछा. उन्होंने उल्लेख किया कि आतंकवाद के दो पहलू हैं, अच्छे और बुरे...

पूर्व आर्मी स्टाफ चीफ (COAS) बिक्रम सिंह और इज़राइल के ब्रिगेडियर जनरल Nitzan Nuriel ने आतंकवाद के मसले पर मुख्य रूप से बात की. और आतंकवाद के खतरे से निपटने को लेकर बातचीत की. रिपब्लिक टीवी के कॉन्ट्रीब्यूटर मेजर गौरव आर्य के साथ बातचीत करते हुए जनरल बिक्रम सिंह और इज़राइल के ब्रिगेडियर ने 9/11 से जम्मू-कश्मीर की स्थिति और उससे जुड़ कई विषयों पर भी बात की.

यू.एस. में 9/11 के आतंकवादी हमले के बाद चीजें कैसे बदल गईं. इस बारे में मेजर गौरव आर्य ने पूछा, जिसपर जनरल बिक्रम सिंह ने ये कहते हुए जवाब दिया कि आतंकवाद एक वैश्विक मुद्दा बन गया है और यह आतंक के खिलाफ लड़ाई को जागृत करता है.

"9/11 एक मोड़ था. यह एक वाटरशेड क्षण था जहां तक ​​आतंकवाद का सवाल है. यह एकमात्र समय था जब संयुक्त राज्य अमेरिका ने रुख किया था. तीन क्षेत्रों पर हमला किया गया था, न्यूयॉर्क, वाशिंगटन डीसी और पेंसिल्वेनिया. और संयुक्त राज्य अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव को उसी महीने में लाया जो वास्तव में आतंकवाद पर ग्लोबल वार के बराबर था.''

जब मेजर गौरव आर्य ने ब्रिगेडियर जनरल Nitzan Nuriel से आतंकवाद के मसले पर अपने देश कदम के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि आतंकवाद, अच्छे और बुरे दो पहलू हैं.

उन्होंने कहा, "मैं एक अच्छी खबर और बुरी खबर से शुरू करूंगा. बुरी खबर ये है कि आतंकवाद हमेशा साथ रहेगा. दुर्भाग्य से ये एक मुद्दा बन जाता है. जो राजनीतिक महकमे से जुड़े टारगेट के पूरा करने में उपयोगी साबित होता है. और अच्छी ख़बर ये है कि हम आतंकवाद के मुकाबले मजबूत हैं. और हम उससे जीतने जा रहे हैं. मैं ऐसे हालात देखता हूं कि आतंकवाद हमें पराजित कर सकता है.

इसके अलावा, जम्मू-कश्मीर और ISIS के मसले से जुड़े गौरव आर्य ने सवाल किया कि राज्य में दुश्मनों के नापाक मंसूबों को कैसे रोका जाएगा?

इस सवाल पर जनरल बिक्रम सिंह ने कहा कि "इस ग्लोबलाइज्ड दुनिया में, आतंकवाद को एक ग्लोबल लिंक माना जाता है. जैसा कि हमने 26/11 और 9/11 में देखा था. जहां तक ​​जम्मू-कश्मीर का सवाल है तो पिछले 2-3 वर्षों में कट्टरपंथीकरण में काफी बढ़ोत्तरी हुई है.वहां पर ऐसे लोग हैं जो ISIS और पाकिस्तान झंडे फहराते हैं. ये कट्टरपंथीकरण का संकेत है."

DO NOT MISS