General News

भीमा कोरेगांव लड़ाई की बरसी पर पुणे में रैली का होगा आयोजन ...

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

भीमा कोरेगांव लड़ाई की बरसी पर महाराष्ट्र के पुणे में रैली का आयोजन किया जाएगा. इसकी जानकारी भीम आर्मी के प्रमुख ने दी है. दलित संगठन भीम आर्मी ने घोषणा की है कि उसके संस्थापक चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण 30 दिसंबर को पुणे में एक रैली को संबोधित करेंगे. इस कार्यक्रम का आयोजन 1 जनवरी को भीमा कोरेगांव की लड़ाई की 201 वीं बरसी से पहले किया जाएगा. 

संगठन ने बुधवार को कहा कि ‘‘भीमा कोरेगांव संघर्ष महासभा’’ में 30 हजार से अधिक लोगों के हिस्सा लेने की उम्मीद है. रैली का आयोजन यहां एसएसपीएमएस मैदान में किया जाएगा जिसमें आजाद के अतिरिक्त संगठन के कई अन्य नेता कार्यक्रम के लिए मौजूद रहेंगे.

भीम आर्मी के जिला अध्यक्ष दत्ता पोल ने बताया कि तीन दिवसीय कार्यक्रम के दौरान आजाद 30 दिसंबर को रैली को संबोधित करेंगे और अगले दिन सावित्री बाई फुले पुणे विश्वविद्यालय (एसपीपीयू) के कुछ छात्रों से संवाद करेंगे. 

पोल ने कहा कि उन्होंने पुणे में ‘महासभा’ करने और स्मारक पर जाने के लिये नगर और ग्रामीण पुलिस के समक्ष आवेदन दिया है. हमें भरोसा है कि हमें अनुमति मिलेगी. कार्यक्रम के लिए पुलिस की ओर से अनुमति नहीं दिए जाने का कोई कारण नहीं है. उन्होंने कहा कि आजाद के अतिरिक्त विनय रतन सिंह और मनजीत नौटियाल जैसे भीम आर्मी के अन्य नेता भी पुणे में होने वाली रैली में मौजूद रहेंगे.

इसे भी पढ़ें : भीमा-कोरेगांव हिंसा केस : महाराष्ट्र पुलिस ने वरवर राव को किया गिरफ्तार, हैदराबाद HC ने खारिज की थी ट्रांजिट रिमांड

गौरतलब है कि भीमा कोरेगांव युद्ध की 200वीं वर्षगांठ के दौरान हिंसा भड़क गई थी. इस हिंसा के दौरान कई लोगों के घायल होने की खबर आई थी. हाल ही में भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में जांच आयोग को दिए गए एफिडेविट में पुणे पुलिस ने जिग्नेश मेवानी, उमर खालिद, सुधीर ढवाले और कबीर कला मंच के सदस्यों का नाम शामिल किया था. पुलिस ने हलफनामे में इन तमाम लोगों को 'भड़काऊ भाषण' देने का दोषी पाया था. 

पुलिस ने बताया था कि अपने भड़काऊ भाषण में इन्होंने कहा था कि 'हमने अतीत में पेशवाई को ध्वस्त कर दिया था, अब हमें नए पेशवाई को ध्वस्त करना है'. पुलिस फिलहाल पूरे मामले की जांच कर रही है.

इसे भी पढ़ें : भीमा कोरेगांव हिंसा: दिग्विजय सिंह बोले- अगर मैं दोषी हूं तो कार्रवाई करें मोदी सरकार...

DO NOT MISS