General News

अदालत ने अकबर के मानहानि मामले पर सुनवाई शुरू की

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

दिल्ली की एक अदालत ने पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ एमजे अकबर के मानहानि मामले की सुनवाई बृहस्पतिवार को शुरू की. रमानी ने अकबर पर 20 वर्ष पहले उनके साथ यौन दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया है.

अकबर की वकील गीता लूथरा ने अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल के समक्ष प्रिया रमानी के कथित विवादास्पद ट्वीट का जिक्र शुरू किया. 

दिल्ली की एक अदालत ने पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ एमजे अकबर की ओर से दायर फौजदारी मानहानि मामले की सुनवाई शुरू की . 

अकबर की ओर से पेश हुई वरिष्ठ अधिवक्ता गीता लूथरा ने अदालत के समक्ष प्रिया रमानी के कई ट्वीट का उल्लेख किया . 

दिल्ली की अदालत ने अकबर के, मानहानि के मामले में संज्ञान लिया और उनका बयान दर्ज करने के लिए 31 अक्टूबर की तारीख तय की .

सुनवाई के दौरान लूथरा  ने कहा रमानी के आरोपों ने पिछले 40 वर्षों में बनी अकबर की छवि को अपूरणीय क्षति पहुंचायी है .

दिल्ली की अदालत ने अकबर के, मानहानि के मामले में संज्ञान लिया और उनका बयान दर्ज करने के लिए 31 अक्टूबर की तारीख तय की .

लूथरा ने बतौर पत्रकार अकबर की छवि का उल्लेख किया और अदालत से उनकी शिकायत पर संज्ञान लेने का अनुरोध किया.

बता दें गौरतलब है कि यौन उत्पीड़न के आरोप लगने के बाद अकबर ने विदेश राज्य मंत्री के पद से बुधवार को इस्तीफा दे दिया था. उन्होंने अपना इस्तीफा प्रधानमंत्री ऑफिस को दिया था जिसे अब स्वीकार कर लिया गया है. 

यह भी पढ़े - #MeToo: यौन शोषण के आरोपों से घिरे केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर ने दिया इस्तीफा...

एम जे अकबर ने प्रेस रिलीज जारी करते हुए कहा कि चूंकि मैंने अपनी व्यक्तिगत क्षमता के अनुसार कानून की अदालत में न्याय लेने का फैसला किया है, इसलिए मुझे लगता है कि यह कार्यालय से इस्तीफा देना मेरे खिलाफ लगाए गए झूठे आरोपों को चुनौती देने के लिए उपयुक्त है.  इसलिए, मैंने विदेश मामलों के राज्य मंत्री के कार्यालय से अपना इस्तीफा दे दिया है. मैं प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री श्रीमती  सुषमा स्वराज के लिए गहराई से आभारी हूं, जिन्होनें  मुझे अपने देश की सेवा करने के अवसर दिया.

 

( इनपुट - भाषा से )

DO NOT MISS