General News

मध्यप्रदेश कांग्रेस में घमासान जारी: सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष बनाने की मांग को लेकर लगा पोस्टर, अज्ञात लोगों ने फाड़ा

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

मध्यप्रदेश कांग्रेस में घमासान जारी चरम पर है।  हर नेता मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की दौड़ में शामिल होना चाहता है। यहीं वजह है कि मध्यप्रदेश में पोस्टर वार थमने का नाम नहीं ले रहा है। दरअसल, एक बार फिर से ज्योतिराव सिंधिया से समर्थकों ने सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष बनाने की मांग को लेकर पोस्टर लगाए। कांग्रेस मुख्यालय से चंद कदम दूरी पर लगाए पोस्टर में लिखा कि ज्योतिराव सिंधिया को कांग्रेस पार्टी मध्यप्रदेश कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बनाए। सीएम हाउस के नजदीक भी सिंधिया समर्थकों ने पोस्टर लगाया। लेकिन अज्ञात लोंगो ने सिंधिया का पोस्टर फाड़ दिया। जानकारी के अनुसार कांग्रेस नेता अब्दुल नासिर ने ही पीसीसी और CM हाउस के पास पोस्टर लगवाए थे।

 प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर पार्टी में मची खींचतान के बीच ग्वालियर-चंबल संभाग के संगठनात्मक जिलों में ग्वालियर शहर एवं ग्रामीण, भिंड, मुरैना, श्योपुर, शिवपुरी, गुना और अशोकनगर में सिंधिया समर्थक खुलकर मैदान में आ गए हैं। 

बता दें मध्यप्रदेश कांग्रेस तीन गुटों में बटा हुआ है। इसी क्रम में मध्यप्रदेश में कांग्रेस पार्टी में मचे घमासान के बीच पार्टी के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का नाम लिए बगैर लताड़ लगाई। सिंधिया ने कहा कि जो आरोप लगाए गए हैं, वह गंभीर है,और मुख्यमंत्री को दोनों पक्षों की बात सुननी चाहिए।  उन्होंने कहा  कि'सभी पक्षों को सुनने के बाद पार्टी के भीतर मतभेदों को हल करना मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी है।'

वहीं  मीडिया कर्मियों ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और वन मंत्री उमंग सिंघार के बीच पैदा हुए विवाद को लेकर सवाल किया तो उन्होंने कहा, 'मुख्यमंत्री कमलनाथ  को बैठकर इस विषय पर दोनों पक्षों की बात सुननी चाहिए, और समाधान निकालना चाहिए. बहुत मुश्किल और मेहनत से हम लोगों ने 15 साल कड़ी मेहनत कर कांग्रेस का शासन स्थापित किया है. अभी छह माह भी नहीं हुए और मतभेद उठ रहे हैं तो मुख्यमंत्री का दायित्व होता है कि दोनों पक्षों के साथ बैठकर सलाह-मशविरा करें और समाधान निकालें। '


इधर कांग्रेस सरकार के परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत और श्रम मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया सामने आ गए। सिंधिया समर्थक इन दोनों मंत्रियों ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पर सीधा हमला बोला।

दोनों ने कहा कि मध्यप्रदेश विधानसभा का चुनाव  कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के नेतृत्व में लड़ा गया था। अब किसी और को सरकार में हस्तक्षेप करने का अधिकार नहीं है। इसी सुर में सुर मिलाते हुए श्रम मंत्री सिसोदिया बोले कि अगर किसी को सरकार में हस्तक्षेप करने का अधिकार है तो वह ज्योतिरादित्य सिंधिया को है।

DO NOT MISS