General News

पश्चिम बंगाल में 'दीदी की दादागिरी'- रामनवमी पर विश्व हिंदू परिषद की बाइक रैली पर रोक

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

रामनवमी के अवसर पर पश्चिम बंगाल में सियासत एक बार फिर तेज हो गई है। कोलकाता पुलिस ने राम नवमी के अवसर पर विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं को बाइक रैली निकालने पर रोक लगा दी गई है।  पुलिस ने विश्व हिंदू परिषद की बाइक रैली शुरू होने से ठीक पहले इजाजत देने से मना कर दिया। 

जानकारी के अनुसार विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं से कहा गया था कि वे रैली के दौरान भगवान राम की केवल एक ही तस्वीर का इस्तेमाल करेंगे। वहीं विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं में रैली करने की इजाजत नहीं मिलने पर भारी रोष है। 

बता दें विहिप  राम नवमी पर पश्चिम बंगाल में बड़े स्तर पर आयोजन करने वाला था। इस पर पश्चिम बंगाल से बीजेपी सांसद बाबुल सुप्रियों ने कहा ये ममता बनर्जी की गंदी तुष्टीकरण की राजनीति है । उसी के तहत बंगाल में यह बहुत सालों से होता आया है। और यह उनकी एक गहरी साजिश है।


बाबुल सुप्रियों ने आगे कहा जहां तक बीएचपी की रैली की बात है वह हर साल निकालते हैं लेकिन योगी जी और अमित शाह का हेलीकाप्टर न उतरे देना इन सारे चीजों को लेकर बंगाल में दीदी तनाव पैदा करना चाहती है।

उन्होंने कहा जो भी ममता बनर्जी करती है वह सिर्फ और सिर्फ एक गंदी राजनीति के अलावा और कुछ नहीं होता। जिसको लेकर VHP चुनाव आयोग जरूर जाएगी । 

बाबुल कहा ममता दीदी कोई फतवा निकाल दें और सर नीचे कर के उसको मान लेंने की मंशा बंगाल की जनता में नहीं है। जन जागरण होना शुरू हो गया है। ये दीदी की खुले तौर पर दादागीरी है। मोहरम की रैली को परमिशन देती है। लेकिन दुर्गा पुजा के विसर्जन को रोक देती है। वह सड़क बांटने के बजाए समाज को बांटना चाहती हैं बंगाल में या तो आप तृणमूल है या तो फिर आप इंसान नहीं है। 

वहीं रिपब्किल भारत की कोलकाता संवाददाता शांताश्री ने कहा पश्चिम बंगाल में यह पहली बार नहीं जब किसी रामनवमी के रैली को रोक दी गई हो। यहां हुगली में रामनवमी के रैली पर रोक लगा दी गई है। जब भी अजान का वक्त होता है और किसी वजह से उस वक्त कोई आपसी सौहार्द न बिगड़ जाए इसलिए इस तरह के रैली को रोका दिया जाता है।

DO NOT MISS