General News

सोनिया गांधी के गढ़ से बोले PM मोदी - राफेल डील में क्वात्रोकी मामा या मिसेल अंकल नहीं, फिर भी घबराई कांग्रेस

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी के गढ़ रायबरेली में जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस पर जमकर प्रहार किया. इस दौरान उन्होंने रायबरेली में करीब 1100 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण  किया. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनसभा को संबोधित करते हुए इशारों ही इशारों में राफेल का जिक्र करतेहुए कहा , देश देश देख रहा है कि कांग्रेस उन ताकतों के साथ खड़ी है जो हमारी सेनाओं को मजबूत नहीं होने देना चाहतीं. यहां के नेता की भाषा पर पाकिस्तान में तालियां बजती हैं.'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामचरित मानस की एक चौपाई के जरिए कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए कहा,  ''रामचरित मानस में एक चौपाई है. गौस्वामी तुलसीदास जी ने लिखा है कि भागवान राम किसी का व्यक्तित्व समझाते हुए कहते हैं - 'झूठई लेना , झूठई देना , झूठई भोजन , झूठ चबेना' . यानी कुछ लोग झूठ ही स्वीकर करते हैं. झूठ ही दूसरो को देते हैं , झूठ का ही भोजन करते हैं और झूठ ही चबाते हैं. पीएम मोदी ने कहा , ऐसे लोगों के लिए देश का रक्षा मंत्रालय बी झूठा है,  देश की रक्षा मंत्री भी झूठी हैं, भारतीय वायुसेना के अफसर भी झूठे हैं , फ्रांस की सरकार भी झूठी हैं, अब तो उन्हें देश की सर्वोच्च अदालत भी झूठी लगने लगी है. 

मोदी ने राफेल मामले पर उच्चतम न्यायालय के हाल के निर्णय पर पहली बार अपने सार्वजनिक सम्बोधन में कहा ‘‘मैं जानता हूं कि वो (कांग्रेस) मोदी पर दाग लगा देना चाहते हैं, लेकिन मैं उनसे जानना चाहता हूं कि इसके लिये देश को ताक पर क्यों रख दिया गया है. क्यों देश की सुरक्षा से खिलवाड़ किया जा रहा है. आज देश के सामने दो पक्ष हैं, एक सत्य, सुरक्षा और सरकार का है जो हर तरह से कोशिश कर रही है कि हमारी सेना की ताकत बढ़े. दूसरा पक्ष उन ताकतों का है जो किसी भी कीमत पर देश को कमजोर करना चाहती हैं.’’

मोदी ने रामचरित मानस की एक चौपाई का जिक्र करते हुए कांग्रेस पर प्रहार किया और कहा कि कुछ लोग झूठ ही स्वीकार करते हैं, झूठ ही देते हैं, झूठ ही भोजन करते हैं और झूठ ही चबाते रहते हैं. कुछ लोगों ने इन्हीं पंक्तियों को अपने जीवन का मूलमंत्र बना लिया है. ऐसे लोगों के लिये देश के रक्षा मंत्रालय, वायुसेना और फ्रांस की सरकार के बाद अब उन्हें देश की सर्वोच्च अदालत भी झूठी लगने लगी है. कांग्रेस सरकारों का इतिहास और सेना के प्रति उसका रवैया कैसा रहा है, इसके लिये यह देश उसे कभी माफ नहीं करेगा.

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर अपनी अगुवाई वाली संप्रग-1 तथा संप्रग-2 सरकारों के कार्यकाल में वायुसेना को मजबूत नहीं होने देते का आरोप लगाते हुए पूछा कि आखिर किसके दबाव में ऐसा किया गया. रक्षा सौदों के मामले में कांग्रेस का इतिहास बोफोर्स घोटाले वाले क्वात्रोक्की ‘मामा’ का रहा है. कांग्रेस के समय में हुए हेलीकॉप्टर घोटाले में एक और ‘अंकल’ मिशेल को पकड़कर भारत लाया गया है. हमने यह भी देखा कि इस आरोपी को बचाने के लिये कांग्रेस ने कैसे तुरन्त अपना वकील अदालत में भेज दिया.

उन्होंने कहा ‘‘मैं पूछना चहाता हूं कि क्या कांग्रेस इसलिये भड़की है कि हमारी सरकार जो रक्षा सौदे कर रही है उसमें कोई क्वात्रोक्की मामा या मिशेल अंकल शामिल नहीं है. क्या इसीलिये वह अब न्यायपालिका को कठघरे में खड़ा करने में लग गयी है.’’

मोदी ने कहा कि जब देश की सुरक्षा की बात हो, सेना की जरूरतों की बात हो, सैनिकों के सम्मान की बात हो, केन्द्र की भाजपानीत सरकार सिर्फ एक ही बात का ध्यान रखती है, राष्ट्रहित, देशहित और जनहित. यही हमारी परवरिश है. यही हमारी सरकार के संस्कार हैं. हमारी सरकार देश के हर सैनिक और उसके परिवार के प्रति जवाबदेह है. किसी एक परिवार के प्रति नहीं.

प्रधानमंत्री ने किसानों के मसलों पर भी कांग्रेस पर जमकर प्रहार किया और कहा कि कांग्रेस के पास इस बात का क्या जवाब है कि उसने अपने राज में स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट क्यों नहीं लागू की. आखिर किसका दबाव था. क्यों उसने न्यूनतम समर्थन मूल्य जैसे अहम विषय को जमीन के भीतर ही गाड़ दिया था. इसका जवाब कांग्रेस कभी नहीं देगी और ना ही उसका बनाया ‘इकोसिस्टम’ कभी उससे पूछेगा.

इससे पहले, प्रधानमंत्री ने रायबरेली स्थित मॉडर्न कोच फैक्ट्री का निरीक्षण किया. साथ ही 1051 करोड़ रुपये की विभिन्न परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया.

मोदी ने एम्स में मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल भवन और प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 500 आवासों का शिलान्यास किया, वहीं कानपुर बाइपास पुल, एम्स में टाइप-2 के तीन ब्लॉक तथा टाइप 3, 4, 5 के एक-एक ब्लॉक के आवास तथा छात्रावास का लोकार्पण किया. इसके अलावा, उन्होंने हमसफर रेल कोच को भी लोकार्पित किया.

( इनपुट- भाषा से भी )