General News

नक्सली हमले में बीजेपी विधायक भीमा मंडावी समेत 5 जवान शहीद, पीएम मोदी ने कहा- बलिदान बेकार नहीं जाएगा

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को छत्तीसगढ़ में नक्सली हमले की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि हमले में मारे गये लोगों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा। पुलिस ने बताया कि छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों के हमले में भाजपा विधायक भीमा मंडावी और चार सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गयी। 

मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘छत्तीसगढ़ में माओवादी हमले की कड़ी निंदा करता हूं। शहीद हुए जवानों के प्रति मेरी श्रद्धांजलि। इन शहीदों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा।’’ 

घटना श्यामगिरि पहाड़ियों के क्षेत्र में घटी जब विधायक का काफिला बाचेली इलाके से कुवाकोंडा की ओर जा रहा था। प्रधानमंत्री ने कहा कि मंडावी भाजपा के समर्पित कार्यकर्ता थे।

बता दें कि जब विधायक के काफिले को निशाना बनाया गया तब वह तब चुनाव-प्रचार करके लौट रहे थे। घटनास्थल से मिले फोटो से ऐसा लगता है कि नक्सलियों ने इम्प्रोवाइज़्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED) के जरिए धमाके को अंजाम दिया गया है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बीजेपी के काफिले पर हुए हमले को लेकर उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है। 

वहीं छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि हमारे विधायक साथी भीमा मंडावी और चार जवान नक्सली हमले का शिकार हुए हैं। झीरम हमले के बाद संसदीय लोकतंत्र पर यह एक और बड़ा और अत्यंत निंदनीय हमला है। मैं बेहद विचलित हूं, स्तब्ध हूं. दुःख व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं। शहीदों को विनम्र श्रद्धांजलि. इस पीड़ा को हमसे ज्यादा कौन समझेगा, जिन्होंने अपने नेताओं की एक पूरी पीढ़ी एक बड़े नक्सल हमले में खो दी थी।

हमारी सरकार बस्तर सहित पूरे छग में आदिवासी जनता का विश्वास जीतने के लिए सतत काम कर रही है. इस बात से नक्सली बौखला रहे हैं। यह जघन्य वारदात उनकी इसी बौखलाहट का नतीजा है। हम एक बार फिर दृढ़ता के साथ संसदीय लोकतंत्र को मजबूत करने की अपनी लड़ाई के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को दोहराते हैं। मैं शीर्ष अधिकारियों के साथ घटना की समीक्षा कर रहा हूं। मैंने अधिकारियों के लिए निर्देश दोहराया है कि नक्सली गोलियों का जवाब उनकी भाषा में ही दिया जाए।

सूत्रों के मुताबिक नक्सलियों ने पहले सुरक्षाकर्मियों को निशाना बनाया।  इसके बाद जब भीमा मंडावी अपनी गाड़ी से बाहर निकले तब उन्हें मौत क घात उतार दिया। बता दें कि छत्तीसगढ़ में तीन चरणों में चुनाव होने हैं। यहां 11 अप्रैल, 18 अप्रैल और 23 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे.

DO NOT MISS