General News

पीएम मोदी ने बहरीन में 200 साल पुराने कृष्ण मंदिर की पुनर्निर्माण परियोजना का किया शुभारंभ

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बहरीन की राजधानी मनामा में भगवान श्री कृष्ण के 200 साल पुराने मंदिर के पुनर्निर्माण के लिए 42 लाख डॉलर की परियोजना का शनिवार को शुभारम्भ किया।

मनामा में श्रीनाथजी (श्री कृष्ण) मंदिर का पुनर्निर्माण कार्य इस साल आरंभ किया जाएगा।

मनामा स्थित इस 200 साल पुराने मंदिर का 42 लाख डॉलर की लागत से 45 हजार वर्ग फुट क्षेत्र में तीन मंजिला भवन के साथ नवीनीकरण किया जा रहा है। 

बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी 7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए प्रस्थान करने से पहले आज यहां श्रीनाथजी मंदिर के दर्शन किए।इससे पहले उन्होंने यूएई में शनिवार को यहां मनामा में मंदिर में प्रसाद चढ़ाने के लिए रुपे कार्ड का इस्तेमाल करते हुए एक विशेष पहली खरीदारी की थी। यूएई तीसरा देश बन गया जहां रुपे कार्ड का शुभारंभ भूटान और सिंगापुर के बाद किया गया।

वहीं भारत और बहरीन ने शनिवार को अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, सौर ऊर्जा तथा सांस्कृतिक आदान-प्रदान के क्षेत्रों में सहयोग पर सहमति जताई और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने द्विपक्षीय संबंधों के पूरे आयाम को विस्तार देने के लिए बहरीन के प्रधानमंत्री शहजादे खलीफा बिन सलमान अल खलीफा से विस्तृत बातचीत की।

बहरीन की यात्रा करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री मोदी और शहजादे खलीफा की मौजूदगी में संस्कृति, अंतरिक्ष, अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) के क्षेत्रों में सहमति-पत्रों (एमओयू) पर दस्तखत किये गये।

इससे पहले प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता हुई। दोनों पक्षों ने आईएसए के साथ सहयोग पर भी रजामंदी व्यक्त की।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘सहयोग के नये क्षेत्रों पर चर्चा हुई। द्विपक्षीय साझेदारी को बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और एच एच शहजादे खलीफा बिन सलमान अल खलीफा दोनों देशों के बीच संस्कृति, अंतरिक्ष,आईएसए और रुपे कार्ड के क्षेत्रों में हुए एमओयू के साक्षी बने।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘द्विपक्षीय संबंधों को प्रगाढ़ बनाने के वास्ते प्रधानमंत्री मोदी ने एचएच शहजादे खलीफा बिन सलमान अल खलीफा, बहरीन के प्रधानमंत्री से मुलाकात की। दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों के पूरे आयाम को बढ़ावा देने की प्रतिबद्धता जाहिर की।’’ 

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और बहरीन की नेशनल स्पेस साइंस एजेंसी ने अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सहयोग पर सहमति जताई।

प्रधानमंत्री मोदी ने 2015 में फ्रांस के तत्कालीन राष्ट्रपति फ्रांसवा ओलोंद के साथ पेरिस में संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में आईएसए की शुरूआत की थी। दोनों ही देशों ने सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रम पर भी सहमति व्यक्त की।

प्रधानमंत्री मोदी ने वार्ता के बाद ट्वीट किया, ‘‘बहरीन के प्रधानमंत्री शहजादे खलीफा बिन सलमान अल खलीफा से मिलकर सम्मानित महसूस कर रहा हूं। हमारी बातचीत व्यापक थी और इसमें भारत-बहरीन के रिश्तों से संबंधित व्यापक विषय शामिल थे।’’ 
दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों के संपूर्ण आयाम को मजबूती प्रदान करने की प्रतिबद्धता जताई।

वार्ता से पहले मोदी का यहां अल गुदैबिया पैलेस में भव्य स्वागत किया गया। हवाईअड्डे पर मोदी की अगवानी शहजादे खलीफा बिन सलमान अल खलीफा ने की। तीन देशों फ्रांस, यूएई और बहरीन की यात्रा के तीसरे चरण के तहत मोदी यहां पहुंचे है। मोदी रविवार को खाड़ी क्षेत्र के सबसे पुराने श्रीनाथजी के मंदिर के पुनरुद्धार के औपचारिक शुभारंभ के साक्षी बनेंगे। 

DO NOT MISS