PC-Twitter/@dasraghubar
PC-Twitter/@dasraghubar

General News

प्रधानमंत्री खास तौर पर विधानसभा भवन बनाने वाले कामगारों से मिलना चाहते थे : सीएम रघुवर दास

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने शुक्रवार को यहां नवनिर्मित विधानसभा भवन में विशेष सत्र की कार्यवाही के बाद मानवता का आदर्श प्रस्तुत करते हुए विधानसभा भवन का निर्माण करने वाले मजदूरों से मुलाकात की और उन्हें बताया कि प्रधानमंत्री उनसे मिलना चाहते थे लेकिन समय की कमी के कारण वह उनसे नहीं मिल सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य को 19 साल के बाद उसकी सबसे बड़ी पंचायत का भवन मिला है और उसके लिए बधाई के असली हकदार हैं मजदूर और कामगार, जिन्होंने दिन रात एक कर अपने खून-पसीने से इसे सींचा है।

दास ने कहा, ‘‘आपकी मेहनत देख कर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी काफी खुश थे। उन्होंने विशेष तौर पर सभी कामगारों को बधाई दी है। वे खुद भी आपसे मिलना चाहते थे, लेकिन समय के अभाव के कारण कल वे आपसे नहीं मिल पाए।’’

मुख्यमंत्री ने नवनिर्मित विधानसभा के कामगारों से आज सभा के एकदिवसीय विशेष सत्र के बाद स्वयं मिलकर ये बातें कही। सत्र की समाप्ति के बाद अपने कार्यालय जाते समय उन्होंने वहां कार्यरत मजदूरों से बातें की उनसे हाथ मिलाया और तस्वीरें भी खिंचवाई।

दास ने कहा, ‘‘झारखंड विधानसभा के इस नवनिर्मित भवन की चर्चा पूरे देश में है।’’

उन्होंने वहां कार्यरत सभी मजदूर एवं कर्मियों के लिए विशेष कैम्प लगाकर उन्हें पंजीकृत करने का निर्देश दिया, ताकि सरकार द्वारा उनके हित में चलाई जा रही योजनाओं का लाभ उन्हें मिल सके। इसमें दुर्घटना बीमा, स्वास्थ्य बीमा, मजदूरों के बच्चों की पढ़ाई आदि का लाभ मिलेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वे खुद भी मजदूर रहे हैं। वे मजदूरों का दर्द जानते हैं। इसलिए मजदूरों के हित में कई योजनाएं शुरू की गई हैं। उनका लक्ष्य है कि हर किसी को इसका लाभ मिले।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बृहस्पतिवार को रांची की अपनी एक दिवसीय यात्रा में झारखंड के नवनिर्मित विधानसभा भवन का उद्घाटन किया। झारखंड राज्य के निर्माण के 19 वर्ष बाद प्रधानमंत्री ने राज्य को 465 करोड़ रुपये की लागत से बनी नयी विधानसभा दी।

(इनपुट - भाषा से भी ) 

DO NOT MISS